Share market kya hai? शेयर बाजार कि पुरी जानकारी हिंदी मे

Share market kya hai? शेयर बाजार एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जहां लोग या निवेशक अलग-अलग कंपनियों के शेयर खरीदते और बेचते हैं। यह एक वित्तीय बाजार है जहां सार्वजनिक रूप से कारोबार करने वाली कंपनियों की स्टॉक एक्सचेंजों के माध्यम से जारी और कारोबार की जाती हैं। इसे स्टॉक मार्केट या इक्विटी मार्केट के रूप में भी जाना जाता है, जहां निवेशक स्टॉक, बॉन्ड, ईटीएफ, और अन्य निवेशो को खरीद और बेच सकते हैं।

पैसा बनाने के लिए शेयर बाजार एक बेहतरीन जगह है, लेकिन अगर शेयर बाजार पर कारोबार करने के लिए उचित जानकारी नही है तो, ईसमे निवेश करना आपके लिए जोखिम भरा भी हो सकता है। ईसलिए इसमें निवेश करने से पहले Share market क्या है और इसकी की मूल बातो को समझना बहुत जरूरी है।

यह लेख आपको शेयर बाजार के विभिन्न पहलुओं पर एक विस्तारित जानकारि प्रदान करेगा ताकि आप शेयर बाजार में निवेश करने से पहले इससे पुरी तहसे परिचित हो सकें।

Share market kya hai?

दरसल, share market, जिसे stock market के रूप में भी जाना जाता है, एक संगठित बाजार है जहां कंपनियां, संगठन और सरकारी संस्थाएं अपने शेयरों को जनता के सामने सूचीबद्ध करते हैं और उनका व्यापार करते हैं। यह एक ऐसा बाजार है जहां निवेशक और व्यापारी सार्वजनिक रूप से कारोबार करने वाली कंपनियों, बॉन्ड और अन्य securities के शेयर खरीद और बेच सकते हैं।

Share market kya hai
Share market kya hai

शेयर बाजार वैश्विक अर्थव्यवस्था का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, क्योंकि यह निवेशकों के बीच securities की बिक्री और खरीद की सुविधा प्रदान करता है। कंपनियां अपनी शेयरों को बेचकर पूंजी जुटाने के लिए इस बाजार का उपयोग करता हैं और फिर उस पैसे का उपयोग कारोवार करने और विकास के काम लिए करता हैं।

यही निवेशक शेयर बाजार का उपयोग अधिक रिटर्न अर्जित करने के लिए करता है। कंपनिया निवेशो को शेयर वेचने के जरिए, निवेशको के द्बारा अपने जोखिम को पूरे बाजार में फैलाते हैं और लाभ कमाने का अधिक अवसर प्राप्त करते हैं। शेयर बाजार निवेशकों को उन कंपनियों के प्रदर्शन को ट्रैक करने का एक तरीका प्रदान करता है जिसमें वे निवेश करते हैं और डेटा के आधार पर निर्णय लेते का अबसर प्रदान करता हैं।

शेयर के प्रकार

शेयर कई प्रकार के होते है और यह निचे गए कुछ इस प्रकार है:

1. Exchange Traded Funds (ETF): ईटीएफ एक प्रकार की सुरक्षा फंड है जो अंतर्निहित संपत्ति की प्रदर्शन को ट्रैक करता है। ईटीएफ का एक्सचेंज कारोबार किया जा सकता है और आम तौर पर म्यूचुअल फंड की तुलना में इसकी फीस कम होता है।

2. Mutual Fund: म्युचुअल फंड एक प्रकार का निवेश है जो स्टॉक, बॉन्ड और अन्य securities के विविधा को खरीदने के लिए कई निवेशकों से धन एकत्रित करता है। म्युचुअल फंड पेशेवर रूप से प्रबंधित होते हैं और निवेशकों को अधिक विविधीकरण की क्षमता और व्यक्तिगत स्टॉक या बॉन्ड की तुलना में अधिक रिटर्न की संभावना प्रदान करते हैं।

3. Stocks: शेयर बाजार में स्टॉक सबसे सामान्य प्रकार की security होता है। एक स्टॉक एक कंपनी में स्वामित्व का प्रतिनिधित्व करता है और निवेशक एक्सचेंज पर स्टॉक के शेयर खरीदने और बेचने में सक्षम होते हैं। स्टॉक निवेशकों को एक लंबी अवधि की क्षमता और लाभांश अर्जित करने का अवसर प्रदान करता हैं।

4. Option: ये एक प्रकार का यौगिक है जिसमें खरीदार के पास एक निर्दिष्ट समय पर पूर्व निर्धारित मूल्य पर security खरीदने या बेचने का अधिकार होता है, लेकिन इसमे कोई दायित्व नहीं होता है। यह निवेशकों को अपने निवेश का लाभ उठाने की क्षमता प्रदान करता हैं और इसका उपयोग जोखिम से बचाव के लिए किया जाता है।

5. Futures: फ्यूचर्स एक प्रकार का व्युत्पन्न contract है जिसमें दो पक्ष भविष्य के लिए पूर्व निर्धारित मूल्य पर security खरीदने या बेचने के लिए सहमत होते हैं। फ्यूचर्स आमतौर पर निवेशकों को जोखिम से बचाव करने या security के भविष्य की कीमत पर अनुमान लगाने के लिए उपयोग किया जाता है।

निवेशक शेयर बाजार में निवेश क्यों करना चाहते हैं?

शेयर बाजार में निवेश करना निवेशकों के लिए पैसा कमाने का एक लोकप्रिय तरीका है। यह स्टॉक, बॉन्ड, म्यूचुअल फंड, एक्सचेंज-ट्रेडेड फंड और भी कई तरह के निवेश विकल्पों की एक विस्तृत श्रृंखला प्रदान करता है।

stock market निवेशकों को व्यवसाय को स्टॉक, या बॉन्ड खरीद कर लागत के जरिए कंपनी के साथ वागीदार बनने का अवसर प्रदान करता है। यह निवेशकों को अपने जोखिम कम करते हुए निवेश में विविधता लाने की अनुमति देता है।

शेयर बाजार अत्यधिक सरल है, जिसका अर्थ है कि यहा निवेशक शेयरों को जल्दी और आसानी से खरीद और बेच सकते हैं और आपात कालीन स्थिति में धन को जल्दी से एक्सेस करने का एक बेहतर सुविधा प्रदान करता है।

इसके अलाबा यह अपने धन को बढ़ाने मे इच्छुक निवेशकों के लिए, अन्य निवेश विकल्पों की तुलना में अधिक रिटर्न की संभावना प्रदान करता है।

शेयर बाजार की सबसे बड़ी खासियत ये है, कि वे अन्य निवेशों की तुलना में अपेक्षाकृत कम लागत वाला होता है। और यही खासियत इसे एक तंग बजट वाले निवेशकों के लिए बढ़िया विकल्प बनाता है।

कुल मिलाकर कहा जाए, तो शेयर बाजार उन निवेशकों के लिए एक लोकप्रिय निवेश विकल्प है जो अपने धन को बढ़ाना चाहते हैं, अपने पोर्टफोलियो में विविधता लाना चाहते हैं और जल्दी और आसानी से धन प्राप्त करना चाहते हैं।

निवेशक पैसा कैसे कमाते है?

निवेशक शेयर बाजार में शेयरों की खरीद-बिक्री कर पैसा कमा सकते हैं। जब कोई निवेशक किसी कंपनी में स्टॉक खरीदता है, तो असल मे वह कंपनी का एक हिस्सा खरीद रहा होता है। जैसे-जैसे कंपनी बढ़ती है और उसके शेयर की कीमत बढ़ती है, निवेशक अपने स्टॉक को लाभ के लिए बेच सकता है। इसे पूंजी प्रशंसा (capital appreciation) के रूप में जाना जाता है।

शेयर बाजार में पैसा कमाने का दूसरा तरीका डिविडेंड के जरिए है। जब कोई कंपनी मुनाफा कमाती है, तो वह उन मुनाफे में से कुछ हिस्सा अपने शेयरधारकों को लाभांश के रूप में वितरित करता है। इन लाभांशों का भुगतान नकद या अतिरिक्त शेयरों के रूप में किया जाता है।

इसके अलाबा, निवेशक डे ट्रेडिंग (day trading) के जरिए भी पैसा कमा सकते हैं। इस ट्रेडिंग मे व्यापारी छोटे मुनाफे में, एक दिन के अबधी मे जल्दी से स्टॉक खरीदते और बेचते हैं। हालांकि डे ट्रेडिंग का कारोबार लाभदायक हो सकता है, लेकिन इसमें नुकसान का उच्च जोखिम होता है।

इसके अतिरिक्त और एक ट्रेडिंग होता है जोकि ऑप्शंस ट्रेडिंग(options trading) के नाम से जाना जाता है। इस ट्रेडिंग में विकल्प अनुबंध खरीदना (option contracts) और बेचना शामिल है, जो खरीदार को एक निश्चित तिथि पर या उससे पहले निर्धारित मूल्य पर स्टॉक खरीदने या बेचने का अधिकार दिया जाता है। इस प्रकार का व्यापार अत्यधिक लाभदायक हो सकता है, लेकिन इसमें हानि का उच्च जोखिम भी होता है।

शेयर बाजार में निवेश कैसे करें?

निश्चित रूप से, शेयर बाजार में निवेश करना आपके धन को बढ़ाने का एक शानदार तरीका है। लेकिन, इसमे डुबकी लगाने से पहले, निवेश की मूल बातें और इससे जुड़े जोखिमों को समझना बेहद जरुरी है।

इसके लिए सबसे पहले, यह तय करना जरुरि है कि आप किस प्रकार के निवेशक बनना चाहते हैं। आप या तो एक सक्रिय निवेशक बन सकते हैं जो सक्रिय रूप से स्टॉक का व्यापार करता है, या एक निष्क्रिय निवेशक जो इंडेक्स फंड या एक्सचेंज ट्रेडेड फंड में निवेश करता है।

एक बार जब आप अपना दृष्टिकोण तय कर लेते हैं, तो विभिन्न प्रकार के शेयरों और फंडों पर शोध करना महत्वपूर्ण होता है। साथही अपनी जोखिम कि सहनशीलता और निवेश लक्ष्यों का आकलन करना भी जरुरि होता है।

एक बार जब आप अपना शोध पुरा कर लेते हैं, तो आप ब्रोकरेज अकाउन्ट (brokerage account) खोल सकते हैं और उसमें पैसा जमा कर सकते हैं। उसके बाद आप स्टॉक और फंड खरीद और बेच सकते हैं।

शेयर बाजार में एक सफल निवेशक बनने के लिए निवेश की मूल बातों को समझने पर ध्यान लगाना बहुत जरुरी होता है।

Share market कैसे काम करता है?

शेयर बाजार एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जो निवेशकों को सार्वजनिक रूप से कारोबार करने वाली कंपनियों के शेयर खरीदने और बेचने की अनुमति देता है। इन कंपनियों को आम तौर पर NSE या BSE जैसे प्रमुख stock exchange में सूचीबद्ध किया जाता है। शेयर बाजार को इक्विटी बाजार के रूप में भी जाना जाता है और इसे दो मुख्य श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है: primary markets और secondary markets

  • Primary market: इसमे, कंपनियां पहली बार जनता के लिए अपने स्टॉक के शेयर जारी करता हैं। ये शेयर सीधे कंपनी से खरीदे जाते हैं। कंपनियां विस्तार और विकास के लिए पूंजी जुटाने के लिए इनका उपयोग करता हैं।
  • Secondary market: यहां निवेशक अन्य निवेशकों से उसी स्टॉक के शेयर खरीद और बेच सकते हैं। इसमे स्टॉक के शेयर खरीदने वाले निवेशक अन्य शेयरधारकों से ऐसा कमाते हैं, न कि स्वयं कंपनी से।

शेयर बाजार में, निवेशक विकल्प(options) और वायदा(futures) जैसे डेरिवेटिव का व्यापार भी कर सकते हैं। ये डेरिवेटिव स्टॉक की अंतर्निहित संपत्ति पर आधारित अनुबंध हैं, जिसका अर्थ है कि वे खरीदार को एक निर्दिष्ट समय पर पूर्व निर्धारित मूल्य पर संपत्ति खरीदने या बेचने का अधिकार देते हैं, लेकिन दायित्व नहीं।

FAQs


Q). Stock Exchange क्या है?

A). स्टॉक एक्सचेंज एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जहां स्टॉक और डेरिवेटिव जैसे विभिन्न वित्तीय साधनों का कारोबार किया जाता है। यह शेयरों और अन्य प्रतिभूतियों को खरीदने और बेचने में मदद करता है। Share market में गतिविधियों को SEBI द्वारा नियंत्रित किया जाता है। भारत में प्राथमिक स्टॉक एक्सचेंज एनएसई और बीएसई हैं, लेकिन सेबी के अनुसार,भारत में कुल सात मान्यता प्राप्त स्टॉक एक्सचेंज हैं।

Q). Sensex और Nifty क्या हैं?

A). भारत में दोनों प्राथमिक शेयर बाजार, यानी NSE और BSEको बाजार के प्रदर्शन को मापने के लिए एक सूचकांक की आवश्यकता होती है। सेंसेक्स बीएसई के लिए सूचकांक काम करता है जबकि निफ्टी एनएसई के लिए सूचकांक का करता है।

Conclusion

शेयर बाजार किसी भी देश की अर्थव्यवस्था का एक महत्वपूर्ण घटक है, क्योंकि यह कंपनियों को पूंजी जुटाने, निवेश को प्रोत्साहित करने और बाजार में तरलता पैदा करने की अनुमति देता है। यह व्यक्तिगत निवेशकों के लिए अपनी संपत्ति बढ़ाने का एक शानदार तरीका है।

About The Author

Author and Founder digipole hindi

Biswajit

Hi! Friends I am BISWAJIT, Founder & Author of 'DIGIPOLE HINDI'. This site is carried a lot of valuable Digital Marketing related Information such as Affiliate Marketing, Blogging, Make Money Online, Seo, Technology, Blogging Tools, etc. in the form of articles. I hope you will be able to get enough valuable information from this site and will enjoy it. Thank You.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *