Google वेबमास्टर ने यह स्पष्ट कर दिया है कि अगर कइ भी Site owner ,Seo मे अपना Extra Advantage लेने के इरादे से Redirecting तकनिक का Use करता है तो इसे  बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। Google ने वाकायदा यह घोषणा की है कि वे उन साइटों पर करी कार्रवाई करेगा जोकि Sneaky Mobile Redirects जैसी तकनिक का Use कर रहे हैं और चुपके से मोबाइल Users को स्पैमी डोमेन पर Redirect करता हैं। दरसल,Google उन साईटो को मोबाइल Users को धोखा देने वाले ठगी मानता है।

Sneaky Mobile Redirects Kya Hai
Sneaky Mobile Redirects Kya Hai

पर,Google यह भी समझता है  कि कभी-कभी यह वेबसाईट owner की जानकारी या सहमति के बिना ही, तीसरे किसी पक्ष द्वारा गुप्त तरिके से भी रीडायरेक्ट को लागू किए जा सकते हैं, जहां मोबाइल रीडायरेक्ट हैकर्स या किसी विज्ञापन अभियानों के द्वारा भी किए जाते हैं। इसी लिए Google ने वेबमास्टर्स पर यह सलाह दी है कि साइट के खिलाफ कोई भी मैन्युअल कार्रवाई (manual action) लागु होने से पहले इसका पता कैसे लगाया जाए। Users को मोबाइल search result के द्वारा अवांछित स्पैमी साइटों पर रीडायरेक्ट करने से मोबाइल और डेस्कटॉप दोनों स्थितिओ मे Users को नुकसान उठाना पर सकता है ,साथ ही साईट के owner को भी नुकसान उठाना पर सकता है 

Redirects Kya Hai?

रीडायरेक्टशन, किसी visitor को एक URL से भिन्न URL पर भेजने का कार्य होता है।दरसल, website पर मौजुद हर एक pages का अपना अलग-अलग पता होता है जो ‘Uniform Resource Locator’ संक्षेप में URL के नाम से जाना जाता है।कभी-कभी किसी कारणवश॔ content को एक URL से दूसरे URL पर move करना परता है या HTTP साईट को HTTPs मे वदते समय redirects को use मे लाया जाता है। उस हालत मे आपको URL Redirects की जरुरत होता है।Redirection असल मे ब्राउज़र को स्वचालित रूप से एक URL से दूसरे URL पर ले जाने मे मदद करता है।आसान भाषा मे इसे समझा जाए तो, Redirection किसी अन्य URL को इंगित करता है चाहे वे उसी वेबसाइट से सम्बंधित हो या फिर किसी दूसरे डोमेन से सम्बंधित हो।किसी एक डोमेन से दूसरे डोमेन पर रीडायरेक्ट कि इस प्रक्रिया को cross-domain redirects भी कहा जाता है।

What are Sneaky Mobile Redirects in Hindi?

Redirection विज़िटर द्वारा Search किए गए URL से भिन्न किसी और URL पर भेजने का कार्य है।Sneaky redirects का मतलब user’s के मोबाइल डिवाइस को एक ऐसी Url पर रीडायरेक्ट करना होता है जिसे crawler द्वारा एक्सेस नहीं किया जा सकता, WAP-click affiliate programs इसका एक बेहतर उदाहरण है। दरसल, इस तरह कि Redirections, Google Webmaster Guideline के खिलाफ है ओर इसकी उल्लंघन हैं। इस तरह कि Webpages को Manual Action Panalty के तौर पर Search engine इने हटा सकते है या deindex कर सकता है और साथ ही इन संसाधनों पर Search engine प्रतिबंध लागू कर सकता हैं।

इस तरह के मामले मोबाइल user’s के परिप्रेक्ष्य से यह एक असामान्य हस्तक्षेप है क्योंकि कंप्यूटर और स्मार्टफोन user’s को Search result में एक ही URL दिखाई देता है, कंप्यूटर user’s उसी result के लिए सही Page पर पहुंचता है ,लेकिन मोबाइल डिवाइस के user’s उसी result के लिए दूसरे URL पर Redirect हो जाता है।

Google ने इस प्रकार के जोड़ – तोड़ वाले redirects के कुछ उदाहरण पेश किए हैं जिन पर वे कार्रवाई कर रहे हैं जोकि users को अन्य Page या Sites पर redirection के जरीए Hack कि जाने मे शामिल हैं।खोजकर्ताओं को धोखा देने वाले उन redirection को cloaking के रूप में भी जाना जाता है

Sneaky Redirect कैसे किया जाता है?

Sneaky redirects एक ऐसी redirects हैं जो Visitors को उस page पर लेके जाता हैं जिसकी उन्हें तलाश नहीं होता है। जेसेकि, मान लिजिए अगर  कोई users किसी ऐसे webpage कि तलाश मे है जहा से उन्हें technology के वारे मे जानकारी जुटाना है लेकिन जवरन उन्हें एक ऐसी अनजान webpage पर लाया जाता है जोकि Health से सम्बंधित Product को Promote कर रहै है जिसकी उन्हें  जरुरत नही है।

जावास्क्रिप्ट कोड,  जिसका उपयोग करके visitors को Landing page से एक अलग ही page पर स्थानांतरित कर दिया जाता है। हालांकि किसी User को कुछ वैध कारणो से भी redirect किया जाता है पर वे एक अलग स्थिति होता है जेसा की पेहले अपको वताया गया है। पर कुछ जावास्क्रिप्ट गलत तरीके से खासकर खोज इंजनों को धोखा देने के इरादे से नियोजित किये जाते है Users या ट्रैफ़िक को उनकी तलाश से पूरी तरह से असंबंधित वेबसाइट पर निर्देशित करने के इरादे से।जावास्क्रिप्ट कि इस तरह के रीडायरेक्ट दरसल Webmaster के नजर मे “cloaking” की श्रेणी में आता है, जो Search Result मे फेरवदल करके Users को एक अलग परिणाम देने का काम करता है। 

फ्लैश(Flash), या अन्य कुछ मीडिया फ़ाइल है जोकि आम तौर पर search engines द्वारा प्रभावी ढंग से crawl करना मुसकिल भरा होता है ओर इसी चिजका फायदा उठाते होये कुछ Frud Sites  इस प्रकार,  search engines द्वारा एक अन्य सामान्य page के आड मे छिपे हुये जावास्क्रिप्ट युक्त page को अनुक्रमित कर लेता है। इस तरसे कुछ Black Hat SEO तकनिक के इस्तेमाल से search engines को मूर्ख बना कर एक असंबंधित वेबसाइट पर Users को redirects करने का काम करते हैं।

एक ओर किसम का Redirects भी हैं जिसे कुछ गलत इरादे बाले publisher के द्वारा चलाए जाते है ,वे Malicious common misspell domain name है।इस तरह के Fruad मे जानवुझकर विज्ञापनदाता के domain name का मिलता-जुलता Extention Domain या फिर misspell domain name को register करलेते है।ऐसे मे जब कोई user किसी खरिदारी के इरादे से उस विज्ञापनदाता के website पर जाना चाहते है, पर site URL को Browser मे Type करते समय गलती से misspell domain URLको Type करलेते है ओर फिर उसी गलत website पर पहुँच जाता है। फिर,302 redirect द्वारा अपने Affiliate Link के साथ user को उसी विज्ञापनदाता के domain पर भेज देते है ओर अपना Affiliate  Commissions कमा लेते है।

Sneaky Redirects से क्यों बचना चाहिए

Google Webmaster Guidelines पहले ही site owners को स्पष्ट कर चुका हैं कि साइट कि गुणवत्ता को बनाए रखने के लिए sneaky redirects जैसी गलत चिजोसे खुदको बचाए रखना चाहिए। एक सही Publisher के तौर पर हमेशा आपको User Expereance पर ध्यान दिया जाना चाहिए न की किसी cloaking पर। आपको हमेशा सुनिश्चित होने चाहिए कि आप Users और search engine spiders इन दोनों को एक ही webpage पर भेज रहे हैं चाहे डिवाइस डेस्कटॉप हो या स्मार्टफोन।

Cloaking को दरसल,search engines द्वारा हमेशा नकारा जाता है ओर इसीके चलते किसी user को अलग परिणाम देने के लिए और search engines को जानबूझकर धोखा देने जैसे कामो के लिए search engines अपने results के सूचकांक से इने हटाने का काम भी कर सकता है।Google के Algorithoms इस प्रकार कि Cloaking सॉफ्टवेयर प्रोग्रामो को ढूंढने मे माहिर है जोकि कीवर्ड के साथ doorway pages को जेनरेट करते हैं।

Sneaky Redirects से कैसे बचें? 

१).ऐसी redirects से खुदको बचाए रखने के लिए, हमेशा विश्वसनीय विज्ञापनदाताओं को ही चुने जेसेकि Google AdSense, इसके अलाबा भी अपके content को मुद्रीकरण करने के कई और विकल्प मौजुद हैं जिसे Search Engine भी अनुमति देता है।

२).हमेशा अपने वेबसाइट के लिए केवल विश्वसनीय ओर सत्यापित आधिकारिक स्रोतों से ही विजेट और सोशल मीडिया बटनस् को स्थापित करे।

Sneaky Mobile Redirects के प्रकार।

Search Engines और उसके users को धोखा देने के तो ऐसे कई तरीके हैं।ऐसी कई जोड़ तोड़ वाले websites है जो cloaking techniques का इस्तेमाल करता है जिनका उद्देश्य सिफ॔ Visitors को उन sites तक पहुंचाना है जिनको Google के bot crawling के दौरान Avoid करता है ओर उन URLs को Search Results मे प्रदर्शित नही करता है।

कुछ अन्य प्रकार के redirections भी होते है जिन्हें वेबमास्टर पहचानता है ओर जिसे Google द्वारा मान्यता प्राप्त है जैसे कि 301/302/303/307 redirects आदि।इसके अलाबा HTTP प्रोटोकॉल 3xx कोड वेब पेज को redirect करने का एक सामान्य प्रक्रिया है जोकि एक नैक इरादे से किए जाने वाले तरीके है जिनसे Visitors एक उपयोगी स्थान पर निर्देशित होते हैं। जैसे कि एक वेबसाइट के Visit के दौरान किसी नए पते पर पहुंचना या एक internal लॉग इन के जरिए किसी पेज पर पहुंचना आदि।

दूसरी ओर, एक sneaky redirects जोकि एक cloaking है और जौ Webmaster Guidelines के हिसाब से वैध उपयोगी इरादा नहीं है।यह दरसल कुछ Javascript के इस्तेमाल से ट्रैफ़िक को कृत्रिम तरीके से निर्देशित करता है ओर जिनका मगसत search engine results मे हेरफेर करके users को धोखे से उनके विज्ञापन तक पहुंचाना है या फिर इनके किसी गुप्त इरादे को पुरा करना है।

एक दुसरे प्रकार के Redirection भी है जो Users को किसी Permalinks के लिए एक छोटा सा लिंक provide करके एक सॉफ्टवेयर के जरीए संचालित करता है जिसे Link Shortner के नाम से जाना जाता है। पर कभी – कभी इस तरह कि Link हेकर द्वारा संचालित spamy Link भी हो सकता है।

Website पर Sneaky Redirects कि समस्या को कैसे सुनिश्चित करें?

एक भ्रामीत redirect आपकी साइट कि Users के विश्वास को ठेस पोहचा सकता है, जिससे उनकी वापस लौटने की संभावना मे कमी अ सकता है। इसलिए, हमेशा सुनिश्चित करें कि आपके द्वारा किए गए किसी भी रीडायरेक्ट Users को हमेशा  सर्च इंजन मे दिखाई देने बाले उसी Page पर ही भेजें न कि कोई असंबंधित Page पर। sneaky redirects किसी भी साइट की प्रतिष्ठा को हानी पोहचा सकता हैं, और आपको Google द्वारा दंडित भी करवा सकता है।

अक्सर वेबसाइट owner को अपनी वेबसाइट पर हो रहै इन sneaky redirects जैसी समस्याओं की जानकारी ही नहीं होता है,नतिजन सर्च इंजन मे Ranking का Down होना और वेबसाइट पर Visitors मे कमीआ आना शुरु हो जाता है।

ऐसे मामलों में, अपके पास करने को दो रास्ते होते हैं:

एक, अगर कोई Visitor अपने redirect होने का शिकायत दज॔ करता है तो उस विज़िटर.से संपर्क करके इस स्थिति के बारे में, आपको सभी विवरणों को जान लेने चाहिए ओर जितनी जल्दी हो सके इसे Fix करलेने चाहिए।

ओर दुसरा है,Google Analytics का इस्तेमाल, यानी Mobile devices से आने वाले visitors की अपके साईट पर बने रहने कि अवधि में तेजी से कमी का विश्लेषण।

हलाकि,इस मामले मे हमेशा Analytics के संकेत बिलकुल सठिक हो ऐसा भी नही है पर sneaky redirects जैसी मामलो से निपटने के लिए और उस पर कड़ी निगरानी रखने के लिए इसका उपयोग जरुरी है।

Sneaky Redirects के लिए Webmaster guidelines.

Webmaster हमेशा User’s Experiences वनाए रखने के इरादे से नियमित रूप से Websites पर निगरानी करता रहता है ताकि Webpages कैसे संचालित हो रहे है यह पता लगाए जा सके।हलाकि,यह कइ अजीब पहलू नहीं है, बल्कि यह इसका एक सामान्य हिस्सा है,अगर आप इसकि guidelines को ठीक से इस्तेमाल करते है ,तो यह आपको बेहतर Result दे सकता है ओर आपके साईट को User’s के नजर मे मूल्यवान वना सकता है।

कभी कभी जने – अनजाने आपकी साईट कुछ इस तरह से संरचित होने लगते है कि वे Search Engine को प्रभावित करता हैं या आप कह सकते है कि,एक तरह से Search Engine को गुमराह करते हैं। ऐसी स्थिति मे Search Engine पर खोज कर रहे एक डेस्कटॉप User को उसकी खोज कि हिसाब से एक सामान्य Page को तो दिखाता है,लेकिन एक Mobile User को एक अनचहा ओर Spamy साईट पर redirect कर देता है यानि आपका साईट Hack हो चुका होता है। ऐसी स्थिति से निपटने के लिए Google की Search Quality टीम Sneaky  Redirect Quality guidelines को अपडेट कि है, जोकि Redirect से संबंधित violation को उजागर करता हैं ताकि छेड़छाड़ की गई वेबसाइटों पर Redirections के issues को जल्द से जल्द ठीक किया जा सके।

Conclusions.

एक सफल और मूल्यवर्धित Website वह होता हे जिसमे visitors को उस site पर  बपस लौटने के हर संभावित प्रयासो को जारी रखता हो और user को एक बड़ा अनुभव देता हो। इसे सुनिश्चित करने के लिए आपको हमेशा sneaky Mobile redirects या Cloaking से बचने चाहिए है।

Sneaky Mobile redirects , SEO के परिप्रेक्ष्य से भी संभावित नुकसानओ को झेलना पर सकता है। आप अपने अपको भाग्यशाली समझें अगर आपको उनका सामना नहीं करना पड़ा है पर आपको इससे मुकाबिला करने के लिए तैयार रहेंना चाहिए।

और अगर आप किसी Affiliate Marketing से जुड़ै हैं, तो अपको अपने affiliate नेटवर्क के बारे मे पुरी तरह से सुनिश्चित होने कि जरुरत हैं। ऐसे मामलो मे हमेशा एक Trusted नेटवर्क पर ही भरोसा करे।

अंत में, हमेशा अपने users को सुनें क्योंकि आपके users आपके site को अलग-अलग तरीकों से अपने अनुभवो को अपसे साझा कर सकते हैं, जीससे आपको आपने वेबसाइट पर बेहतर प्रस्तुती के अवसर मिल सकता है ओर इसके अलाबा ,अपके site पर होने बाले कोई भी अनचाही गतिविधी पर अपको सुचना मिल सकता है क्योंकि अपके site पर होने बाले sneaky Mobile redirect जेसी गतिविधी सवसे पहले अपके users को ही प्रभावित करेगा और सबसे पेहले उनको ही इसके बारे मे पता चलेगा

About The Author

BISWAJIT

Hi! Friends, this is Biswajit, the founder and author of 'DIGIPOLE HINDI'. He is interested in gathering valuable information related to digital marketing, such as affiliate marketing, blogging, earning money online, SEO, Adsense, technology, SEO tools, etc, and conveying the people in the form of articles.

Author:- I hope you will be able to get enough valuable information from this site and enjoy it. Thank you.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *