Software kya hai? क्या आप जानते हैं सॉफ्टवेयर हमारे आधुनिक जीवन में कैसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है?मैं आपको बता दूं सॉफ्टवेयर अब हमारे जीवन का एक अभिन्न अंग है।

अधिकांश स्मार्ट डिवाइस जैसे स्मार्टफोन, लैपटॉप, कंप्यूटर, स्मार्टवॉच और कई अन्य गैजेट जिनका हम अपने दैनिक जीवन में उपयोग करते हैं, सॉफ्टवेयर द्वारा संचालित होते हैं।

आप कह सकते हैं, ये सभी स्मार्ट डिवाइस की आत्मा है, इसकी शक्ति के बिना स्मार्ट डिवाइस और कुछ नहीं बल्कि एक बेजान खिलना है।

इस लेख मे में आपको बताऊंगा कि software kya hota hai, वे कितने प्रकार के होते है, ये काम कैसे करता है और उन्है कोन बनाता है। तो चलिए आगे बढ़ते है और जान लेते है कि software क्या है।

Software kya hai?

ये निर्देशों या प्रोग्रामों का एक समूह है जो कंप्यूटर को बताता है कि क्या करना है। यह कार्यक्रमों, प्रक्रियाओं और नियमों का एक संग्रह है जो कंप्यूटर को संचालित करने में सक्षम बनाता है।

ये निर्देशों, डेटा या प्रोग्राम का एक सेट है जिसका उपयोग कंप्यूटर चलाने और खास कार्यों को निष्पादित करने के लिए किया जाता है।

यह कंप्यूटर प्रोग्राम, लाइब्रेरी और संबंधित डेटा जैसे इमेज, टेक्स्ट और कॉन्फ़िगरेशन फ़ाइलों से बना होता है। वे आमतौर पर ऑपरेटिंग सिस्टम, डिवाइस ड्राइवर, कंपाइलर

और कोई अन्य उपकरणओ मे शामिल होते हैं जो कंप्यूटर हार्डवेयर को अपना कार्य करने में सक्षम बनाते हैं।

यह ऐसी प्रोग्राम होते हैं जो उपयोगकर्ताओं को विषेश कार्य करने में सक्षम बनाते हैं, जैसे वर्ड प्रोसेसिंग, वेब ब्राउजिंग और गेम खेलना आदि।

Software कितने प्रकार के होते है?

मोटे तौर पर, इसे दो मुख्य श्रेणियों में वर्गीकृत किया जा सकता है: systems softwareऔर application software.

1. Systems software: ये एक प्रकार का कंप्यूटर प्रोग्राम है जिसे कंप्यूटर के हार्डवेयर और एप्लिकेशन प्रोग्राम चलाने के लिए डिज़ाइन किया गया है। इसमें ऑपरेटिंग सिस्टम, जैसे Windows और Mac OS, डिवाइस ड्राइवर, यूटिलिटी सॉफ़्टवेयर और फ़र्मवेयर शामिल हैं।

यह आमतौर पर कंप्यूटर पर पहले से इंस्टॉल होता है और यह गतिविधियों के प्रबंधन और समन्वय और कंप्यूटर के संसाधनों को साझा करने के लिए जिम्मेदार होता है।

2. Application software: दूसरी ओर, इसे किसी विशेष कार्य को करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। इस एप्लिकेशन में word processors, स्प्रेडशीट, मीडिया प्लेयर और डेटाबेस प्रोग्राम शामिल हैं।

इस एप्लिकेशन को अक्सर कंप्यूटर हार्डवेयर से अलग से खरीदा जाता है और इसका उपयोग उपयोगकर्ता के कंप्यूटर के क्षमताओ को बढ़ाने के लिए किया जाता है।

कुछ अन्य प्रकार के सॉफ्टवेयर

सिस्टम और एप्लिकेशन के अलावा, कई अन्य प्रकार के सॉफ़्टवेयर भी उपलब्ध हैं, जिनमें वेब एप्लिकेशन, मोबाइल एप्लिकेशन और गेम डेवलपमेंट शामिल हैं।

  • Web application: वेब एप्लिकेशन एक ऐसे प्रोग्राम हैं जिन्हें उपयोगकर्ताओं को एक निश्चित सेवा या एप्लिकेशन तक पहुंच प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। वेब एप्लिकेशन के उदाहरणों में Google डॉक्स और ड्रॉपबॉक्स शामिल हैं।
  • Mobile application/app: मोबाइल एप्लिकेशन वे प्रोग्राम हैं जिन्हें मोबाइल उपकरणों, जैसे स्मार्टफोन और टैबलेट पर उपयोग करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। मोबाइल एप्लिकेशन के उदाहरणों में गेम, नेविगेशन ऐप और सोशल मीडिया ऐप शामिल हैं।
  • Game development: दुसरी और, गेम डेवलपमेंट का उपयोग वीडियो गेम बनाने के लिए किया जाता है। गेम डेवलपमेंट के उदाहरणों में यूनिटी और अनरियल इंजन शामिल हैं।

कुल मिलाकर, कई अलग-अलग प्रकार के सॉफ़्टवेयर उपलब्ध हैं, जिनमें सिस्टम से लेकर वेब एप्लिकेशन और मोबाइल एप्लिकेशन शामिल हैं। जिन्है उपयोगकर्ता की आवश्यकताओं के आधार पर, या उनकी आवश्यकताओं के अनुरूप सही प्रकार का चयन किया जा सकता है।

ये कैसे काम करता है?

दरसल, वे कोड की पंक्तियों से बना होता है, जो एक खास प्रोग्रामिंग भाषा में लिखे जाते हैं। कोड को इस रूप में लिखा जाता है जिसे कंप्यूटर द्वारा ही समझा जा सकता है। कोड को तब एक ऐसे रूप में संकलित किया जाता है जिसे कंप्यूटर द्वारा पढ़ा जा सकता है।

कंप्यूटर तब कोड में दिए गए निर्देशों का पालन करता है, और उन कार्यों को पुरा करता है जिन्हें करने के लिए उसे प्रोग्राम किया गया है।इसे विभिन्न तरीकों से विकसित किया जा सकता है, जिसमें मौजूदा कोड का उपयोग करना, नया कोड लिखना या दोनों का संयोजन करना शामिल है।

इसे बनाने की प्रक्रिया में कोड की डिजाइनिंग, कोडिंग, परीक्षण और डिबगिंग शामिल है। एक बार यह पूरा हो जाने के बाद, इसे जारी किया जाता है और लोगों के उपयोग के लिए उपलब्ध कराया जाता है।

सॉफ्टवेयर लाइसेंसिंग क्या है?

लाइसेंसिंग एक सॉफ़्टवेयर विक्रेता और उपयोगकर्ता के बीच कानूनी समझौता है, जो उपयोगकर्ता की पहुँच के नियमों और शर्तों को रेखांकित करता है।आमतौर पर इसमे उपयोग पर प्रतिबंध और उपयोगकर्ता को दिए गए अधिकार शामिल होते हैं।

यह सुरक्षा का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, क्योंकि यह विक्रेता को इसकी उपयोग के तरीके पर नियंत्रण देता है और इसे उन तरीकों से उपयोग करने से रोकता है जो लाइसेंस द्वारा अनुमत नहीं हैं।

सॉफ्टवेयर का इतिहास

शुरुआती कंप्यूटरों में इस्तेमाल होने वाले ऑपरेटिंग सिस्टम, बहुत ही बुनियादी और कार्यक्षमता में सीमित थे। जैसे-जैसे कंप्यूटर अधिक उन्नत और अधिक जटिल कार्य करने में सक्षम होते गए, वैसे-वैसे सॉफ्टवेयर भी उन्नत होता गया।

1950 के दशक में ‘FORTRAN’ प्रोग्रामिंग भाषा के रिलीज के साथ पहला व्यावसायिक सॉफ्टवेयर विकसित किया गया। और यह जल्दी ही वैज्ञानिकों और इंजीनियरों के बीच लोकप्रिय हो गई।

1960 के दशक में, पहले व्यावसायिक ऑपरेटिंग सिस्टम, OS/360 के विकास ने एक नए युग की शुरुआत की। इसने उपयोगकर्ताओं को मेनू-संचालित इंटरफ़ेस का उपयोग करके अपने कंप्यूटर के साथ इंटरैक्ट करने की अनुमति दी, और यह जल्दी ही कई व्यावसायिक अनुप्रयोगों के लिए मानक बन गया।

उसके बाद 1970 और 1980 के दशक में, पर्सनल कंप्यूटर (पीसी) के विकास के कारण विभिन्न प्रकार के प्रोग्रामिंग का विकास हुआ। 1980 के दशक की शुरुआत में Apple II और IBM PC की रिलीज़ ने एक सॉफ्टवेयर क्रांति को जन्म दिया, जिसने कई तरह के एप्लिकेशन विकसित किए।

1990 के दशक में, इंटरनेट के विकास ने वेब ब्राउज़र से लेकर ऑनलाइन गेम तक, विभिन्न प्रकार के प्रोग्रामिंग का विकास किया। और दशक के मध्य तक वर्ल्ड वाइड वेब के विकास ने वेब आधारित अनुप्रयोगों को और सक्षम बनाया, जिससे उपयोगकर्ता इंटरनेट से जुड़े किसी भी कंप्यूटर से सॉफ़्टवेयर तक पहुंच और उसके साथ सहभागिता करना शुरु किया।

Software और Hardware में क्या अंतर है?

दरसल, वे निर्देशों या डेटा का एक सेट है जो कंप्यूटर को बताता है कि किसी खास कार्य को कैसे करना है। यह अमूर्त है, अर्थात इसे छुआ नहीं जा सकता। इसकी उदाहरणों में ऑपरेटिंग सिस्टम, एप्लिकेशन और प्रोग्राम को लिया जा सकता हैं।

हार्डवेयर कंप्यूटर सिस्टम के भौतिक घटक हैं, जैसे मॉनिटर, माउस, कीबोर्ड, मेमोरी और प्रोसेसर। यह मूर्त है, अर्थात इसे छुआ जा सकता है। इसके उदाहरणों में प्रिंटर, राउटर, मोडेम और स्कैनर का जिकर किा जा सकता है।

FAQs


Q1) सॉफ्टवेयर कौन बनाता है?

इन्है इंजीनियरों, प्रोग्रामर और डेवलपर्स द्वारा बनाया जाता है। ये पेशेवर प्रोग्रामर , एप्लिकेशन को डिजाइन करने, विकसित करने, परीक्षण करने और बनाए रखने के लिए विभिन्न प्रकार की कोडिंग भाषाओं और उपकरणों का उपयोग करते हैं। डेवलपर खास प्रोग्रामिंग भाषाओं, और वेब, मोबाइल या डेस्कटॉप एप्लिकेशन के विशेषज्ञ होते हैं।

Q2) सॉफ्टवेयर कैसे प्राप्त करें?

इसे कई तरीकों से हासिल किया जा सकता है। इसे खुदरा स्टोर या ऑनलाइन विक्रेताओं से खरीदा जा सकता है, या सीधे इंटरनेट से डाउनलोड किया जा सकता है। इसके अतिरिक्त, अधिकांश ऑपरेटिंग सिस्टम बुनियादी प्रोग्राम के साथ पहले से इंस्टॉल होते हैं, और ऐप स्टोर या मार्केटप्लेस से अतिरिक्त प्रोग्राम इंस्टॉल किए जा सकते हैं। अंत में, मुक्त-स्रोत प्रोग्राम के माध्यम से या नि:शुल्क डाउनलोड करके इसे मुफ्त में प्राप्त करना भी संभव है।

Q3) कंप्यूटर सॉफ्टवेयर क्या है?

कंप्यूटर सॉफ्टवेयर, जिसे कभी-कभी प्रोग्रामिंग भी कहा जाता है, निर्देशों का एक समूह है जो कंप्यूटर को बताता है कि क्या करना है। इसमें एप्लिकेशन और ऑपरेटिंग सिस्टम शामिल होते हैं जो कंप्यूटर के काम करने के तरीके को नियंत्रित करते हैं और अन्य प्रोग्राम चलाने के लिए एक मंच प्रदान करते हैं। इसमें वेब ब्राउज़र, मीडिया प्लेयर और अन्य उपयोगिताएँ भी शामिल होती हैं।

Conclusion

तो, what is software in hindi? इसका उपयोग विभिन्न प्रकार के अनुप्रयोगों में किया जाता है, चिकित्सा और वित्तीय से लेकर कंप्यूटर गेम और मोबाइल एप्लिकेशन तक इसका उपयोग किया जाता है। इसका उपयोग कृत्रिम बुद्धिमत्ता, रोबोटिक्स और स्वायत्त वाहनों के विकास में भी किया जाता है।

यह आधुनिक दुनिया का एक अनिवार्य हिस्सा है, और हमारे जीवन को बेहतर बनाने के लिए इसकी क्षमता को पहचानना महत्वपूर्ण है। मनोरंजन प्रदान करने से लेकर हमें संगठित रहने में मदद करने तक, यह हमारे जीवन का अभिन्न अंग बन गया है। इसका विकास एक महत्वपूर्ण और हमेशा विकसित होने वाला क्षेत्र बना हुआ है।

जैसे-जैसे तकनिकी विकास जारी रहेगा, वैसे-वैसे यह भी हमारे लिए उपलब्ध होता रहेगा। उन्नत उपकरणों और सुविधाओं का लाभ उठाने के लिए इसकी नवीनतम विकास के बारे में सूचित रहना महत्वपूर्ण है।

About The Author

Author and Founder digipole hindi

Biswajit

Hi! Friends I am BISWAJIT, Founder & Author of 'DIGIPOLE HINDI'. This site is carried a lot of valuable Digital Marketing related Information such as Affiliate Marketing, Blogging, Make Money Online, Seo, AdSense, Technology, Blogging Tools, etc. in the form of articles. I hope you will be able to get enough valuable information from this site and will enjoy it. Thank You.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *