DNS क्या है? (DNS in hindi) यह इंटरनेट का एक अनिवार्य हिस्सा है और वेबसाइटों और अन्य ऑनलाइन सेवाओं को त्वरित और विश्वसनीय पहुंच प्रदान करता है।

DNS यानि डोमेन नाम सिस्टम कंप्यूटर की एक प्रणाली है जिसका उपयोग मानव-पठनीय डोमेन नामों को कंप्यूटर-पठनीय आईपी पतों में बदलने के लिए किया जाता है। यह वह तरीका है जिससे कंप्यूटर इंटरनेट पर एक दूसरे का पता लगाते हैं।

DNS सर्वर, डोमेन नाम और IP पतों के बारे में जानकारी संग्रहीत करता हैं। जब कोई उपयोगकर्ता ब्राउज़र पर एक डोमेन नाम टाइप करता है, तो DNS सर्वर इसे एक आईपी पते में अनुवादित करता है और उपयोगकर्ता के ब्राउज़र को सही वेबसाइट पर निर्देशित करता है।

इस लेख मे आपको DNS के बारे मे जानकारी देने के साथ-साथ डीएनएस कैसे काम करता है और यह क्यो इतना महत्वपूर्ण है इसके बारे मे भी विस्तार से बताने की कोशिश करुंगा।

DNS क्या है?(DNS in hindi)

DNS (Domain Name System) एक ऐसी प्रणाली है जिसका उपयोग डोमेन नामों को संख्यात्मक आईपी पतों में अनुवादित करने के लिए किया जाता है।

यह वह प्रोटोकॉल है जिसका उपयोग डोमेन नामों को उन कंप्यूटरों के पतों का हल निकालने के लिए किया जाता है जिनका वे इंटरनेट पर प्रतिनिधित्व करते हैं। यह वह प्रणाली है जो उपयोगकर्ताओं को आईपी पते के बजाय डोमेन नाम टाइप करके डेटा भेजने और प्राप्त करने की सुबिधा प्रदान करता है।

ये डोमेन नामों के बारे में जानकारी संग्रहीत करने के लिए एक वितरित, श्रेणीबद्ध डेटाबेस प्रदान करता है, और साथही एक इंटरफ़ेस भी प्रदान करता है जो उपयोगकर्ताओं को उस जानकारी को जल्दी और आसानी से एक्सेस करने मे मदद करता है।

डीएनएस इंटरनेट का एक अनिवार्य हिस्सा है, क्योंकि यह उपयोगकर्ताओं को संख्यात्मक आईपी पते को याद किए बिना वेबसाइटों और अन्य संसाधनों तक पहुंचने की अनुमति देता है।

इसका उपयोग उपयोगकर्ताओं को दुर्भावनापूर्ण वेबसाइटों से बचाने और प्रमाणीकरण सेवाएं प्रदान करने के लिए भी किया जाता है, और इसका उपयोग कुछ साइटों को ब्लॉक करने और पहुंच को प्रतिबंधित करने के लिए भी किया जा सकता है।

डीएनएस कितने प्रकार के होते हैं?

डीएनएस के चार मुख्य प्रकार हैं: recursive DNS (या resolvers), authoritative DNS, root DNS और TLD DNS (top-level domains)।

1. Recursive DNS (resolver): यह एक प्रकार का डीएनएस सर्वर है जो पदानुक्रम में उत्तर ढूंढकर उपयोगकर्ताओं के लिए प्रश्नों को हल करता है।

यह अन्य DNS सर्वरों को प्रश्न भेजता है और प्राप्त होने वाली जानकारी को संयोजित करता है। यह प्रक्रिया रूट DNS सर्वर को क्वेरी करके शुरू होता है और यह प्रक्रिया तब तक जारि रहता है जब तक इसे एक आधिकारिक उत्तर नहीं मिल जाता।

इस प्रक्रिया में, प्राप्त होने वाली प्रतिक्रियाओं को कैश किया जाता है, ताकि अगली बार जब कोई प्रश्न करता है तो उत्तर तेजी से लौटाया जा सके।

2. Authoritative DNS: यह डीएनएस का वो प्रकार है जो एक डोमेन के लिए डीएनएस रिकॉर्ड संग्रहीत करता है। यह एक डोमेन के लिए सूचना का अंतिम स्रोत है और एकमात्र सर्वर है जो उस डोमेन के बारे में प्रश्नों का उत्तर दे सकता है।

यह आधिकारिक है क्योंकि यह एकमात्र सर्वर है जो किसी डोमेन के बारे में सटीक जानकारी प्रदान कर सकता है। आधिकारिक डीएनएस सर्वर आमतौर पर डीएनएस पदानुक्रम के शीर्ष स्तर पर स्थित होते हैं और अन्य डीएनएस सर्वरों को एक डोमेन के बारे में जानकारी प्रदान करने के लिए जिम्मेदार होता हैं।

3. Root DNS: यह इंटरनेट या एक निजी नेटवर्क से जुड़े कंप्यूटर, सेवाओं या अन्य संसाधनों के लिए एक श्रेणीबद्ध और विकेन्द्रीकृत नामकरण प्रणाली है।

यह डोमेन नामों का आवश्यक संख्यात्मक IP address को अनुवाद करता है, ताकि इसे आसानी से याद किया जा सके और लोगों द्वारा उपयोग किया जा सके।

Root DNS एक फ़ोन बुक की तरह है, जो सार्वजनिक रूप से उपलब्ध वेबसाइटों और संसाधनों की निर्देशिका प्रदान करता है। यह इंटरनेट में नामों और पतों के वितरित करने का प्राथमिक साधन है और ये वह प्रणाली है जिसके द्वारा डोमेन नामों को आईपी पतों में हल किया जाता है।

इसका उपयोग डोमेन नामों को प्रमाणित करने और ईमेल रूटिंग जैसी अन्य सेवाएं प्रदान करने के लिए भी किया जाता है।

4. TLD DNS (टॉप-लेवल डोमेन): टॉप-लेवल डोमेन (TLD) वह सिस्टम है जिसका उपयोग इंटरनेट पर डोमेन नामों को प्रबंधित करने के लिए किया जाता है।

यह डोमेन नाम को आईपी एड्रेस से मैप करने के लिए जिम्मेदार होता है, ताकि कंप्यूटर एक दूसरे के साथ संवाद कर सकें। TLD DNS में सभी शीर्ष-स्तरीय डोमेन शामिल हैं, जैसे .com, .org, .edu, साथ ही देश-कोड डोमेन जैसे .us, .uk, और .fr

TLD DNS को आमतौर पर डोमेन नाम रजिस्ट्रार के एक नेटवर्क द्वारा प्रबंधित किया जाता है, जो डोमेन नाम को पंजीकृत करने , प्रबंधित करने और TLD को अप-टू-डेट रखने के लिए जिम्मेदार होता हैं।

DNS सर्वर और Name सर्वर के बीच क्या अंतर है?

DNS सर्वर और Name सर्वर दो ऐसे शब्द हैं जो डोमेन नेम सिस्टम (DNS) पर चर्चा करते समय अक्सर एक दूसरे के स्थान पर उपयोग किए जाते हैं। जबकि तकनीकी रूप से यह दो शब्द समान नहीं हैं।

डीएनएस सर्वर वे कंप्यूटर हैं जो DNS रिकॉर्ड्स को स्टोर करते हैं जोकि एक डोमेन नाम को IP पते में अनुवादित करता हैं। वे इस बात को सुनिश्चित करता हैं कि वेबसाइट के आगंतुक सही सर्वर पर निर्देशित हैं। डीएनएस सर्वर या तो सार्वजनिक या निजी भी हो सकते हैं।

सार्वजनिक DNS सर्वर Google, OpenDNS और CloudFlare जैसी कंपनियों द्वारा प्रदान किए जाते हैं, जोकि जनता के लिए निःशुल्क उपलब्ध होता हैं।

निजी डीएनएस सर्वर आमतौर पर किसी संगठन के आईटी विभाग द्वारा प्रबंधित किए जाते हैं और इंटरनेट से जुड़ने के लिए अधिक सुरक्षित, और निजी तरीका प्रदान करने के लिए उपयोग किया जाता है।

जबकि, Name सर्वर एक डोमेन नाम से जुड़ी सभी सूचनाओं को संग्रहीत करने के लिए जिम्मेदार होता हैं, जैसे कि इससे जुड़ा आईपी पता। जब एक डोमेन एक रजिस्ट्रार के साथ पंजीकृत किया जाता है, तो रजिस्ट्रार दो Name सर्वर रिकॉर्ड प्रदान करता है, जो तब रूट सर्वर में संग्रहीत होता हैं।

ये Name सर्वर रिकॉर्ड तब डीएनएस सर्वर द्वारा डोमेन नाम को उसकि संबंधित आईपी पते पर मैप करने के लिए उपयोग किए जाते हैं।

संक्षेप में कहा जाए तो, डीएनएस सर्वर डोमेन नाम को IP पतों में अनुवाद करने के लिए होता हैं, जबकि Name सर्वर एक डोमेन नाम से जुड़ी सभी सूचनाओं को संग्रहीत करने के लिए होता हैं।

DNS सर्वर कैसे काम करता है?

यह एक ऐसी प्रणाली है जो डोमेन नाम (जैसे example.com) को IP पतों (जैसे 192.168.0.1) में अनुवादित करता है ताकि इंटरनेट पर एक कंप्यूटर अन्य कंप्यूटरों से जुड़ सकें।

दरसल, यह एक ऐसी कंप्यूटर है जो डोमेन नेम सिस्टम रिकॉर्ड को स्टोर करता है। यह लोगो के अनुरोधों का जवाब देने के लिए ज़िम्मेदार होता है, जैसे कि वेब ब्राउज़र, जो एक डोमेन नाम से जुड़े आईपी पते की तलाश करता हैं।

जब कोई क्लाइंट डोमेन नाम का अनुरोध करता है, तो यह सर्वर अपने डेटाबेस में संबंधित IP पते को खोजता है। यदि उसे IP पता नहीं मिलता है, तो वह दूसरे सर्वर को अनुरोध भेजता है, जो IP पते के लिए अपने डेटाबेस को खोजेगा।

यह प्रक्रिया तब तक दोहराई जाती है जब तक वे IP address नहीं मिल जाता, या जब तक अनुरोध का समय समाप्त नहीं हो जाता।जब इस सर्वर को IP पता मिल जाता है, तो वह क्लाइंट को प्रतिक्रिया भेजता है।

इस प्रतिक्रिया में डोमेन नाम से जुड़ा आईपी पता शामिल है। क्लाइंट तब इस आईपी पते का उपयोग वेबसाइट या डोमेन नाम से जुड़ी अन्य सेवाओ से भी कनेक्ट कर सकता है।

यह सर्वर अन्य डोमेन नामों और उनके संबंधित IP पतों के बारे में भी जानकारी संग्रहीत करता है। जब DNS सर्वर को एक डोमेन नाम के लिए अनुरोध प्राप्त होता है, तो वह अपने डेटाबेस के माध्यम से डोमेन नाम से जुड़े आईपी पते की तलाश करता है।

अगर यह IP पता उसे जाता है, तो यह क्लाइंट को प्रतिक्रिया भेजता है।अनुरोधों को संसाधित करने और उचित आईपी पते के साथ जवाब देने के अलावा, डीएनएस सर्वर डोमेन नाम प्रणाली को भी प्रबंधित करने में मदद करता हैं।

वे इस बात को ट्रैक करता हैं कि कौन से डोमेन नाम पंजीकृत और आवंटित किए गए हैं, और साथही यह सुनिश्चित करता हैं कि डोमेन नाम अद्वितीय हैं।

वे यह सुनिश्चित करने में भी मदद करते हैं कि डोमेन नाम अनलाइन पर मौजुद हैं और उनसे जुड़े आईपी पते अद्यतित हैं। कुल मिलाकर, यह सर्वर www(वर्ल्ड वाइड वेब) में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता हैं। उनके बिना, वेबसाइटों और अन्य सेवाओं को इंटरनेट पर खोजना असंभव होगा।

DNS वेबसाइट पर ट्रैफ़िक कैसे रूट करता है?

जब कोई उपयोगकर्ता www.example.com जैसे वेब पते पर पहुचने के लिए आपनी browser पर टाइप करता है, तो डोमेन नाम सिस्टम (DNS) उपयोगकर्ता के अनुरोध को सही वेबसाइट पर भेजने के लिए तुरन्त आपना काम शुरु कर देता है। दरसल, DNS वेबसाइटों के लिए एक निर्देशिका है, जो डोमेन नामों को IP पतों से match करता है।

DNS वेबसाइट पर ट्रैफ़िक कैसे रूट करता है
Image source (aws.amazon)

जब कोई उपयोगकर्ता आपनी browser पर कोई डोमेन नाम टाइप करता है, तो अनुरोध DNS सर्वर को भेजा जाता है। सर्वर तब अपनी सूची में डोमेन उस डोमेन नाम को खोजता है और उस डोमेन से जुड़े आईपी पते को उपयोगकर्ता की browser पर वापस भेज देता है।

उपयोगकर्ता का कंप्यूटर तब उस आईपी पते पर स्थित वेब सर्वर पर HTTP अनुरोध भेजता है। अब वेब सर्वर उस अनुरोधित पृष्ठ भेजकर प्रतिक्रिया करता है, और फिर वे उपयोगकर्ता के डिवाइस पर प्रदर्शित होता है।

यह प्रक्रिया पृष्ठभूमि में होता है और उपयोगकर्ता के लिए अदृश्य होता है। इस तरह इंटरनेट वेब पतों को देखने और ट्रैफ़िक को सही वेबसाइट पर ले जाने में सक्षम होता है।डीएनएस इंटरनेट का एक महत्वपूर्ण घटक है, जिसके बिना इंटरनेट काम नहीं कर पाएगा।

DNS वेबसाइटों पर ट्रैफ़िक को तेज़ी से और कुशलता से रूट करने में सक्षम है, साथही यह भी सुनिश्चित करता है कि उपयोगकर्ता बिना किसी देरी के अपनी इच्छित सामग्री तक आसानि से पहुँच सकें।

FAQs


Q). डीएनएस सर्वर का क्या अर्थ है?

A). DNS (डोमेन नाम सिस्टम) सर्वर एक कंप्यूटर सर्वर है जिसमें सार्वजनिक आईपी पतों और उनके संबंधित डोमेन नामों का डेटाबेस होता है।

यह डोमेन नामों को आईपी पतों में अनुवादित करता है ताकि ब्राउज़र इंटरनेट पर मौजुद संसाधनों को लोड कर सकें।

इस सर्वर का उपयोग ईमेल वितरण को नियंत्रित करने, लोडिंग संतुलन बनाए रखने और सुरक्षा नीतियों को लागू करने के लिए भी किया जाता है।

Q). Primary DNS सर्वर क्या है?

A). Primary डीएनएस सर्वर एक प्रकार का name server है जो डोमेन नेम सिस्टम (DNS) रिकॉर्ड की मास्टर कॉपी को स्टोर करने का काम करता है और किसी भी उपयोगकर्ता के लिए संपर्क का पहला बिंदु है। यह किसी विशेष डोमेन नाम से जुड़े आईपी पते उपयोगकर्ता को भेजने के लिए ज़िम्मेदार है।

Q). Secondary DNS सर्वर क्या है?

A). एक Secondary डीएनएस सर्वर एक बैकअप सर्वर है जो प्राथमिक सर्वर के विफल होने की स्थिति में DNS प्रश्नों को संभालता है। इसका उपयोग सिस्टम आउटेज के मामले में अतिरेक प्रदान करने के लिए किया जाता है और यह अधिकांश DNS संरचना का एक प्रमुख घटक है।

About The Author

Author and Founder digipole hindi

Biswajit

Hi! Friends I am BISWAJIT, Founder & Author of 'DIGIPOLE HINDI'. This site is carried a lot of valuable Digital Marketing related Information such as Affiliate Marketing, Blogging, Make Money Online, Seo, AdSense, Technology, Blogging Tools, etc. in the form of articles. I hope you will be able to get enough valuable information from this site and will enjoy it. Thank You.

One thought on “DNS क्या है?(DNS in hindi) यह कैसे काम करता है?”
  1. We’re a group of volunteers and opening a newscheme in our community. Your web site offered us with valuable info to workon. You have done an impressive job and our entire community will begrateful to you.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *