Xml full form in Hindi

« Back to Glossary Index

XML (Xml full form) एक मार्कअप भाषा है जिसे एक विशिष्ट प्रारूप में डेटा को परिवहन और संग्रहीत करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। जिसे मानव और मशीन इंटेलिजेंस द्वारा संसाधित किया जा सकता है। यह दस्तावेज़ों को एन्कोड करने के लिए नियमों के एक सेट को परिभाषित करता है।

यह वेब कि सबसे महत्वपूर्ण तकनीकों में से एक है। आप कोडिंग को डेवलपर्स पर छोड़ सकते हैं, लेकिन इसकी सही जानकारी आपको इसके बारे मे एक बेहतर समझ दे सकता है और कैसे किसी वेबसाइटों कि, सामग्री online पर वितरित किए जाते है इसे भी समझ सकते। तो, आइए समझते हैं कि XML वास्तव में क्या है।

XML क्या है?

जैसा कि मैंने पहले भी कहा कि, यह एक मार्कअप लैंग्वेज है,” और इसे 1998 में वर्ल्ड वाइड वेब कंसोर्टियम (W3C) के द्वारा प्रकाशित किया गया था। जिसका उद्देश बड़े पैमाने पर इलेक्ट्रॉनिक प्रकाशन की चुनौतियों का सामना करना था और इसी के चलते online पर डेटाए साझा करने मे यह सबसे उपयोगी प्रारूपों में से एक बन गया।

क्योंकि इस लैंग्वेज को लोगों के साथ-साथ कंप्यूटर सॉफ्टवेयर द्वारा भी पढ़ा और इसकी व्याख्या किया जा सकता है, इसलिए इसे मानव और मशीन पठनीय लैंग्वेज के रूप में भी जाना जाता है। इसका का प्राथमिक उद्देश्य डेटा को इस तरह से संग्रहीत करना है जिन्हे सॉफ़्टवेयर द्वारा आसानी से पढ़ा, समझा और online पर साझा किया जा सके।

हलाकि, इसके बारे मे एक ओर चिज जानना महत्वपूर्ण है कि XML डेटा स्टोर करने के अलावा ओर कुछ नहीं करता।

Xml full form क्या है?

X – for ‘Extensible’

M – for ‘Markup’

L – for ‘Language’

xml full form in hindi

XML एक संक्षिप्त शद्ब है। इसका full form “Extensible Markup Language”. है। दरसल ये मार्कअप Language कुछ कोड या टैग का एक सेट होता है, जो डिजिटल प्रारूप या दस्तावेज़ में टेक्स्ट का वर्णन करता है। जैसेकि Hypertext Markup Language (HTML), XML भी HTML कि तरह ही एक मार्कअप लैंग्वेज है।

HTML जिसका उपयोग वेबपेज को प्रारूपित करने के लिए किया जाता है और XML , HTML का एक अधिक लचीला हिस्सा है, जो इंटरनेट पर जटिल कामो को पुरा करना संभव बनाता है। XML, HTML कि तरह ये परिभाषित नहीं करता है कि डेटा कैसे प्रदर्शित हो; ये सिफ॔ इसे ट्रांसपोर्ट करता है।

इसका इस्तेमाल डॉक्यूमेंट को एनकोड करने के लिए किया जाता है जिसे इंसान और मशीन दोनों ही समझ सकता हैं। इसे आसानि से संग्रहीत और संशोधित भी किया जा सकता है। जब आप इसका का उपयोग कर रहे हों तो आपको सरलता, सामान्यता और उपयोगिता इन तीन प्रमुख बातों का ध्यान जरुर रखने चाहिए ।

इसके कुछ नियम होते हैं जिनका पालन आपको करना होता है जैसे open tag और closing tag । सन 1998 मे XML कि आविष्कार से लेकर 2006 और 2008 में इसे संशोधित किया जा चुका है जो कि इसका सबसे नवीनतम संस्करण है।

इसकी विशेषताएं

इसमें बहुत सारे विशेषताएं हैं जो इसे अन्य भाषाओं से अलग बनाता हैं। इसके कुछ प्रमुख विशेषताओं की बारे मे यहा चचा॔ की गई है।

Extensible और मानव पठनीय :- ज्यादातर XML एप्लिकेशन उम्मीद के अनुरुप काम करता है, चाहे इसमे कोई नया डेटा ही क्यों ना जोड़ा जाए।

Overall Simplicity :- XML ​​डेटा के साझाकरण, डेटा का परिवहन, प्लेटफ़ॉर्म का परिवर्तन और डेटा उपलब्धता जैसी कामो को आसान बनाता है। इसके अलाबा वे किसी भी डेटा को खोए बिना नए ऑपरेटिंग सिस्टम, नए ऐप्स या नए ब्राउज़र पर विस्तार या अपग्रेड करना आसान बनाता है।

डेटा को कोई प्रकार की reading machine के लिए उपलब्ध कराया जा सकता है, जैसे कि लोगो के लिए, कंप्यूटर के लिए , voice मशीन के लिए, न्यूज फीड, आदि।

HTML से डेटा को अलग करता है :- इसके इस्तेमाल से डेटाओ को विभिन्न फ़ाइलों में आसानि से सहेजा जा सकता है।

Validation के लिए अनुमति देता है :-इन दस्तावेज़ो को DTD या Schema द्वारा Validate किया जा सकता है। और साथही यह इस बात को सुनिश्चित करता है कि इसके दस्तावेज़ वाक्यात्मक रूप से मान्य है।

Unicode को समर्थन करता है :- यह Unicode को support करता है, जिसका मतलब ये है कि , किसी भी लिखित मानव भाषा में किसी भी जानकारी को संप्रेषित कर सकता है।

नई भाषाएँ बनाने के लिए उप्युक्त :- इसके द्वारा अब तक कई नई इंटरनेट भाषाओं का निमा॔ण हुया है।

XML फ़ाइलो में कोड होता है और इसका फ़ाइल एक्सटेंशन यानि के closing “.xml” के साथ समाप्त होता है। इन फ़ाइलो में कुछ टैग होता हैं जो यह परिचालना करता हैं कि दस्तावेज़ो को कैसे संरचित किया जाए ,साथ ही इसे इंटरनेट पर कैसे संग्रहीत और परिवहन किया जाए।

नीचे इस फ़ाइल का एक उदाहरण चित्र के रुप मे दिया गय है।

इसका उपयोग क्यों किया जाता है?

क्योंकि ये फाइलें एक plain text दस्तावेज हैं, इसलिए उन्हें कंप्यूटर और मनुष्यों दोनो के लिए , स्टोर करने, परिवहन करने और व्याख्या करने मे इसका उपयोग किया जाता है। और यह इंटरनेट पर सबसे ज्यादा उपयोग की जाने वाले मशिनी भाषाओं में से एक है।

इसके कुछ उपयोग यहाँ दिए गए हैं:

डिजिटल सूचनाओ का परिवहन:- इन फाइलों का टेक्स्ट-आधारित प्रारूप उन्हें अत्यधिक पोर्टेबल बनाता है, और इसलिए वेब सर्वरों के बीच सूचना स्थानांतरित करने के लिए व्यापक रूप से इसका उपयोग किया जाता है। कुछ APIs, जैसे SOAP API और REST API, XML फाइलों में पैक किए गए अन्य applications को जानकारी भेजते हैं।

वेब Searching:- क्योंकि XML दस्तावेज़े जानकारी के प्रकार को परिभाषित करता है, इसी लिए , HTML की तुलना में ये अधिक आसान और प्रभावी है।

कम्प्यूटर Applications:- ये फाइलें कंप्यूटर ऐप्स को आसानी से संरचना और डेटा लाने की अनुमति देता हैं जिसकी उन्हें जरुरत होता है। फ़ाइलो से डेटा पुनर्प्राप्त करने के बाद, प्रोग्राम यह तय कर सकता हैं कि उन डेटाओ के साथ क्या करना है।

मतलब कि किसी अन्य डेटाबेस में संग्रहीत करना, प्रोग्राम बैकएंड में इसका उपयोग करना, याफिर इसे स्क्रीन पर प्रदर्शित करना हो सकता है। इसके अलाबा XML के साथ, कुछ अतिरिक्त लोकप्रिय फ़ाइले निर्मित होता हैं।

जेसे कि, Microsoft Office फ़ाइल एक्सटेंशन( .docx) , Excel स्प्रेडशीट के लिए ( .xlsx ), और PowerPoint के लिए (.pptx ) आदि। इन फ़ाइल एक्सटेंशन के अंत में “x” XML होता है।

वेबसाइट और वेब ऐप्स:- वेबसाइट और वेब ऐप्स इन फाइलों से अपने content खींच सकता हैं। मार्कअप भाषाएं (XML और HTML) दोनो साथ मिलकर काम करता हैं।

पृष्ठ पर content प्रदर्शित कराने के लिए XML कोड मॉड्यूल HTML फ़ाइलो में भी दिखाई दे सकता हैं। यह XML उन इंटरैक्टिव वेबसाइटों और पृष्ठों पर लागू करता है जिनकी content गतिशील रूप से बदलता रहता है।

Read Also:-

SDK full form in hindi

FAQ full form in hindi

FTP full form in hindi