Cryptography Kya Hai? what is Cryptography in Hindi?

81 / 100

Cryptography Kya Hai? what is Cryptography in Hindi?क्रिप्टोग्राफी सुरक्षित संचार का एक तकनीक है ,जहां दो पक्षों के बीच साझा किए गए संदेश या डेटा को बदनियति वाले किसी तिसरे पक्षों से सुरक्षित करने के लिए उपयोग किया जाता है। कंप्यूटर डेटा हमेशा एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर तक संचारित होता है।पर  एक बार जब आपका डेटा हाथ से बाहर हो जाता है, तो बुरे इरादे वाले लोग अपने फायदे के लिए आपके डेटा के साथ किसी तरह कि छेडखानी या इसे नकल वना सकते हैं। क्रिप्टोग्राफीक तकनीक इंटरनेट कि इस समस्या को हल करने का एक शक्तिशाली उपकरण है। सिधे तोर पर कहे तो, क्रिप्टोग्राफी, गुप्त लेखन के अनुवाद ओर डेटा के अर्थ को छिपाने का एक विज्ञान है।

तो चलिए Cryptography Kya Hai? इसे ओर थोरी विस्तार से जानते है।

Cryptography Kya Hai? what is Cryptography in Hindi?
Cryptography Kya Hai? what is Cryptography in Hindi?

Cryptography Kya Hai?

Cryptography Kya Hai? यह असल मे दो ग्रीक शब्द, क्रिप्टो और ग्राफ़ी से लिया गया है। ग्रीक भाषा मे, क्रिप्टो का अर्थ होता है गुप्त और ग्राफ़ी का अर्थ है लिखना।

इसे थोड़ा आसान भाषा मे समझे तो, यह गुप्त लेखन का एक ऐसा आधुनिक इलेक्ट्रॉनिक तकनिक है जो  किसी तीसरे पक्ष के हस्तक्षेप या डेटा टेम्परिंग से बचाते हुए सुरक्षा के साथ सही व्यक्ति को वास्तविक जानकारी भेजता है। इसी तकनिक को क्रिप्टोग्राफी के रूप में जाना जाता है।

इंटरनेट के माध्यम से इलेक्ट्रॉनिक लेनदेन, ई-मेल संदेशों, क्रेडिट कार्ड के विवरण, कइ भी ऑडियो या वीडियो प्रसारण, और अन्य कई संवेदनशील जानकारी को सुरक्षित करने के लिए Cryptographic तकनीकों को अपनाया जाता है।

बिटकॉइन, एथेरियम और लिटकोइन जैसे crypto-Currencies के अस्तित्व में आने के साथ ही इस Cryptographic तकनीक की लोकप्रियता वड़ी है।

History of cryptography in Hindi.

माना जाता है के प्राचीन काल में भी cryptographic तकनीक अस्तित्व में था, और  कुछ हद तक इसकी उपयोग भी किया जाता था। cryptography का सबसे बुनियादी रूप, प्राचीन मिस्र और मेसोपोटामिया के लेखो से प्रकट होता है। प्राचीन क्रिप्टोग्राफी का एक उदाहरण खनुमहोटेप (Khanumhotep) नामक  मिस्र के एक कब्र में पाया गया हे, जोकि लगभग 3,900 साल पुराना है।

कंप्यूटर के आविष्कार के साथ ही, Cryptography एनालॉग युग की एक उन्नत शुरुवात हो गई है। 128-बिट बाले गणितीय encryption, किसी भी प्राचीन या मध्यकालीन cipher से कहीं अधिक मजबूती से कंप्यूटर सिस्टम के लिए उपयुक्त है। 

हाल ही में, cryptographic तकनीकों का उपयोग Crypto-Currency के लिए भी किया गया है जिसमें hash functions, public-key Cryptography, और Digital Signatures भी शामिल हैं। इन तकनीकों का उपयोग मुख्य रूप से blockchains पर संग्रहीत डेटा की सुरक्षा सुनिश्चित करने और लेनदेन कि प्रमाणिकता को सावित करने के लिए किया जाता है। 

Cryptography का एक विशेष रूप, जिसे Elliptical Curve Digital Signature Algorithm (ECDSA) के नाम से जाना जाता है,जो Bitcoin और अन्य cryptocurrency सिस्टम को अतिरिक्त सुरक्षा देने और यह सुनिश्चित करने के लिए किया जाता है कि उस  धन का उपयोग केवल उनके सही मालिकों द्वारा ही किया जा रहा है।

पिछले 4,000 वर्षों में Cryptography ने आपना एक लंबा सफर तय किया है, और आगे भी इसकी Development का काम जारि रेहेगा। 

Cryptography के main elements.

Plaintext:-

एक Plaintext,कइ भी टेक्स्ट, बाइनरी कोड, या कइ छवि हो सकता है जिसकी गोपनीयता को वनाए रखने के लिए एक ऐसे Format में इसे परिवर्तित किया जाता हे ओर जिसे अनलॉक करने के लिए एक Secret Kye कि आवश्यकता होती है।जिसे किसी निश्चित व्यक्ति के अलावा किसी अन्य व्यक्ति के लिए पढ़ना असंभव होता है।

Ciphertext:-

Encryption की इस प्रक्रिया मे, plaintext को एक तेजदार फॉर्मेट में बदल दिया जाता है, इस फॉर्मेट को ciphertext के रुप मे जाता है। एक ciphertext असलमे encrypted संदेश से संबंधित हीता हैं, जो एक receiver आपने संदेश के प्राप्ति के दौरान इसे प्राप्त करता है। हालाँकि, ciphertext उसी plaintext का ही स्वरूप है जिसे आख़िरकार आपने आउटपुट को plaintext मे पुन: पेश करने के लिए Decryption कि प्रक्रिया से गुजरना परता है। 

Encryption:-

एन्क्रिप्शन किसी भी जानकारी को एक अपठनीय प्रारूप में बदलने की प्रक्रिया है। यह प्रक्रिया plaintext को एक ciphertext में बदल देता है। इस Encryption की प्रक्रिया के लिए एक एल्गोरिथम की जरुरत होता है जिसे cipher या secret key के रूप में जाना जाता है।उस secret key के बिना Encrypted कि गई  मूल जानकारी को Decrypt करना बिलकुल Possible नही है।

Decryption:-

यह एन्क्रिप्शन प्रक्रिया का बिलकुल उल्टा process है, जिसमें decryption एल्गोरिथम और एक secret key के द्वारा ciphertext को वापस plaintext में बदल दिया जाता है। symmetric एन्क्रिप्शन में, decrypt करने के लिए उपयोग की जाने बाली key ओर encrypt करने बाली key मे समाता होती है। दूसरी ओर, asymmetric एन्क्रिप्शन या public key एन्क्रिप्शन में decrypt करने वाली key एन्क्रिप्ट करने वाली key से अलग होती है।

Cipher:-

एन्क्रिप्शन और डिक्रिप्शन के एल्गोरिदम को एक साथ cipher कहा जाता है। encryption प्रक्रिया का सबसे दिलचस्प  हिस्सा एल्गोरिथम या cipher है। एक algorithm या cipher कुछ और नहीं बल्कि encryption और decryption  प्रक्रिया का एक सूत्र है। एक बुनियादी cipher, bits लेता और लौटाता है और इस बात की परवाह नहीं करता कि यह bits एक textual जानकारी, एक छवि या एक वीडियो को दर्शााता हैं।

key:- 

key एक संख्या या संख्याओं का एक समूह है जिस पर cipher काम करता है। तकनीकी शब्दों में कहे तो, एक key क्रिप्टोग्राफ़िक एल्गोरिथम के आउटपुट ईयानी ciphertext और plaintext को नियंत्रित करने के लिए किया जाता है। एन्क्रिप्शन और डिक्रिप्शन दौरान इस key की जरुरत होती है। एक secret key जितनी लंबी होगी, हमलावर द्वारा संदेश को डिक्रिप्ट करना उतना ही कठिन होगा।

अब आपने जाना कि Cryptography Kya Hai? what is Cryptography in Hindi? ओर साथ ही आपने इसके elements के बारे मे भी जाना। 

चलिए आगे जानते है कि Cryptography कितने प्रकार के होते है।

SSL Certificate Kya Hai?

Types of Cryptography in Hindi.

आमतौर पर cryptography तीन प्रकार के होती है और ये इस प्रकार हैं:-

Symmetric Key Cryptography:

यह एक ऐसी Encryption प्रणाली है जहां पर किसी संदेशों को Encrypt और Decrypt करने के लिए एक ही Key का इस्तेमाल होता है। Symmetric Key एक तेज़ और सरल प्रक्रिया हैं। लेकिन इसमे एक समस्या यह है कि,इसमे Sender और Receiver को सुरक्षित तरीके से Key का आदान-प्रदान करना पड़ता है। 

Hash Functions:

इस Algorithm में किसी भी key का उपयोग नहीं किया जाता है। इसमे plain text के अनुसार एक तय लंबाई वाले hash value होता है जिससे plain text  की content को पुनर्प्राप्त करना असंभव होता है।

Asymmetric Key Cryptography:

इस प्रणाली मे, सूचनाओं को Encrypt और Decrypt करने के लिए keys की एक जोड़ी होता है। एक public key , Encryption के लिए और एक Private Key,Decryption के लिए इस्तेमाल किया जाता है। एक public key और एक Private Key, दोनो अलग होता हैं। 

Cryptography Ke Features. 

क्रिप्टोग्राफी की विशेषताएं कुछ इस प्रकार हैं:

गोपनीयता(Confidentiality):

इसमे सूचना केवल उसी व्यक्ति को प्राप्त होगा , जिसके लिए यह तॆयार कि गई है , उसके अलावा किसी अन्य व्यक्ति उस जानकारी तक पहुंच नहीं पाऐगा है।

अखंडता(Integrity):

ये उपाय डेटा की सटीकता और पूर्णता का आश्वासन प्रदान करता हैं। यह जानकारी की सुरक्षा , अखंडता बनाए रखने , ओर डेटा तक कि पहुंच को नियंत्रित करता है। साथ ही, यह भी सुनिश्चित करता है कि ,केवल सही उपयोगकर्ता ही उस डेटा या जानकारी को बदलने में सक्षम हौ जोकि इसे बदलने के लिए वैध हैं।

गैर परित्याग(Non-repudiation):

इस चरण में,सूचना का निर्माता या sender  सूचना को भेजने के बाद अपने इरादे से इनकार नहीं कर सकता।

प्रमाणीकरण(Authentication):

इस चरण में, Sender और Receiver की पहचान की पुष्टि की जाती है ओर साथ ही जानकारी के Source की भी पुष्टि की जाती है।

निष्कर्ष

हजारों सालों से लोग संख्याओं की अध्ययन करते आ रहे हैं। और हजारों सालों से यह कमोबेश सिर्फ गणितज्ञों के लिए दिलचस्प रहा है। आज इसी संख्या सिद्धांत की उपलब्धियों का उपयोग करते हुए गुप्त संदेशों के encryption के लिए एक एल्गोरिथम विकसित किया गया था। आज इसका सबसे अधिक प्रयोग कंप्यूटर प्रोग्रामिंग के लिए होता है। इसके बिना, आज कोई भी इंटरनेट पर सुरक्षित लेनदेन करने में सक्षम नहीं है,  यहां तक कि ई-मेल और अन्य व्यक्तिगत सेवाओं में सुरक्षित  लॉग इन करना भी संभव नहीं है।

उम्मीद है, इस लेख के माध्यम से Cryptography Kya Hai? what is Cryptography in Hindi? के बारे में आपको बहुत सारी जानकारी मिल गई होगी। इस तरह की और महत्वपूर्ण जानकारी पाने के लिए इस ब्लॉग को जरुर Subscribe करें और इस ब्लॉग में प्रकाशित जानकारी को अपने दोस्तों के साथ साझा करें।

 

About The Author

BISWAJIT

Hi! Friends, this is Biswajit, the founder and author of 'DIGIPOLE HINDI'. He is interested in gathering valuable information related to digital marketing, such as affiliate marketing, blogging, earning money online, SEO, Adsense, technology, SEO tools, etc, and conveying the people in the form of articles.

Author:- I hope you will be able to get enough valuable information from this site and enjoy it. Thank you.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *