What is affiliate marketing in hindi? आज लाखों लोग एक सामान्य शब्द के साथ इन्टरनेट पर इस चिज कि खोज करते रहते हैं कि वे ऑनलाइन पैसा कैसे कमा सकते हैं? जवाब में, उन्हें एक लंबी-सूची मिलती है जो हर किसी के लिए लागू करना सम्भब नहीं हो पाता है, और इसलिए वे सही गाईड न मिल पाने के कारण शुरुआती दौर से ही आपना ऑनलाइन कैरियर शुरू करने की इच्छा छोड़ देते है।

लेकिन, इस लेख में आपको बताना चाहुंगा कि अगर आपके पास कोई डिजिटल स्रोत है जहां आपके पास एक अच्छा अनुयायी आधार है, तो एफिलिएट मार्केटिंग आपके लिए बिना किसी कठिन प्रयासो के आय का एक अच्छा स्रोत बन सकता है। अगर एकबार आप सहबद्ध विपणन कि हर वारिकीओ को समझ लेते है तो आप भी इनसे कमाना शुरु कर सकते है।

तो, इस लेख मे में आपको विस्तार से बताऊंगा कि एफिलिएट मार्केटिंग क्या होता है?(What is affiliate marketing in hindi?), ये केसे काम करता है और सबसे अहम चिज ये है कि आप कैसे इसकी उपियोग से अनलाइन पैसा कमा सकते ते है। तो, चलिए आगे बढकर जान लेते है कि आखिर ये एफिलिएट मार्केटिंग होता क्या है।

What is affiliate marketing in hindi?

एफिलिएट मार्केटिंग एक प्रकार का प्रदर्शन-आधारित मार्केटिंग प्रणाली है जिसमें एक व्यवसाय प्रत्येक ग्राहक या विजिटर के लिए एक या एक से अधिक सहयोगी मार्केटर को पुरस्कृत करता है, जो एफिलिएटरस के स्वयं के मार्केटिंग प्रयासों के द्वारा लाया जाता है। मार्केटिंग का यह रूप व्यवसायों के लिए कोई बड़ी लागतों के बिना संभावित ग्राहकों तक पहुंचने का एक शानदार तरीका है।

इस प्रत्रिया मे किसी व्यापारी की वेबसाइट पर ट्रैफ़िक लाने के लिए एफिलिएटरस को नकद या अन्न किसी भी तरिको से पुरस्कृत किया जाता है, और खरीदारी कि प्रत्रिया को पूरी करने वाले प्रत्येक एफिलिएट एक कमीशन अर्जित करता है। Affiliate Marketing व्यवसायों के लिए महंगे विज्ञापन अभियानों में निवेश किए बिना अपने ग्राहक बढ़ाने का एक शानदार तरीका है।

Affiliate marketing कैसे काम करता है?

यह एक ऑनलाइन बिक्री रणनीति है जहा एक उत्पाद के मालिक किसी तृतीय पक्ष के द्बारा अपनी उत्पादों को बढ़ावा देकर बिक्री बढ़ाने की प्रयास करता है। यह प्रणाली रेफरल मार्केटिंग का एक आधुनिक रूप है, जहां ग्राहको को रेफर करने वाले व्यक्ति को कमीशन मिलता है।

उत्पाद के मालिक एफिलिएट को एक अद्वितीय लिंक प्रदान करता है, जिसका उपयोग बिक्री को ट्रैक करने के लिए किया जाता है। जब उस लिंक के माध्यम से खरीदारी की जाती है, तो एफिलिएट मार्केटर को एक कमीशन प्राप्त होता है। यह कमीशन बिक्री के प्रतिशत या एक निश्चित राशि तौर पर भी हो सकते है।

इस प्रक्रिया मे उत्पाद के मालिक अपने उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न सहयोगियों के साथ काम कर सकता है। प्रत्येक एफिलिएटरस आपना पछनदिता उत्पादों को चुनने का हक होता है जिन्है वे बढ़ावा देना चाहते है, और साथही उन्हें कैसे बढ़ावा देना है इसका अधिकार भी उन्ही के पास होता है। एक सहयोगी के तौर पर उत्पादो को कैसे और कहा प्रचार करना है और किन तरीकों का उपयोग करना हैं इन बातो पर निर्णय लेना भी उन्ही के हातो मे होता है, जैसेकि ब्लॉगिंग, ईमेल अभियान, सोशल मीडिया और सशुल्क विज्ञापन। हलांकी ये सभी उत्पादो के मालिको के निजी नियम और शर्तें के अनुसार भिन्न भी हो सकते है।

एफिलिएट मार्केटिंग उत्पादो के मालिको के लिए अपनी बिक्री बढ़ाने और नए ग्राहकों तक पहुंचने का एक प्रभावी तरीका है। इसके अलाबा, एफिलिएटरस के लिए पैसा कमाने का यह एक सस्ता और आसान तरीका है। अगर इसे सही तरीके से किया जाए, तो Affiliate Marketing उत्पादो के मालिक और Affiliate दोनों के लिए लाभ कमाने का एक शानदार तरीका हो सकता है।

Affiliate Marketing के प्रकार

एफिलिएट मार्केटिंग के कई प्रकार हैं, जैसेकि pay-per-click, pay-per-sale, pay-per-lead, cost-per-action, और cost-per-thousand-impressions, और कई अन्य।

यहां प्रत्येक श्रेणीओ का वर्णन किया गया है जो आपको यह तय करने में मदद करेगा कि आपके लिए कौन सा उपयुक्त होगा।

1. Cost-Per-Action (CPA): यह एक प्रकार का प्रदर्शन-आधारित विपणन है जिसमें एक व्यवसाय अपने एफिलिएटस को प्रत्येक योग्य कार्रवाई के लिए एक निश्चित शुल्क का भुगतान करता है। जिसमे खरीदारी करना, कोई फ़ॉर्म भराना या न्यूज़लेटर के लिए साइन अप कराने जैसी चिजे शामिल होता है।

2. Cost-Per-Click (CPC): इस प्रकार के विपणन प्रक्रिया मे एक व्यवसाय अपने सहयोगी मार्केटरस को उपयोगकर्ताओं द्वारा किए गए प्रत्येक क्लिक के लिए एक निश्चित शुल्क का भुगतान करता है।

3. Cost-Per-Impression (CPI): इस तरह कि विपणन प्रक्रिया मे एक व्यवसाय अपने सहयोगी मार्केटरस को उपयोगकर्ताओं द्वारा देखे जाने बाले हर विज्ञापन के लिए एक निश्चित शुल्क का भुगतान करता है।

4. Cost-Per-Lead (CPL): इस तरह कि मार्केटिंग मे एक व्यवसाय अपने एफिलिएट को एक संदर्भित आगंतुक द्वारा उत्पन्न कए गए प्रत्येक लीड के लिए एक निश्चित शुल्क का भुगतान करता है।

5. Pay-Per-Call (PPC): इस प्रकार कि मार्केटिंग मे एक व्यवसाय अपने एफिलिएट को एक संदर्भित आगंतुक द्वारा किए गए प्रत्येक योग्य कॉल के लिए एक निश्चित शुल्क का भुगतान करता है।

6. इन्फ्लुएंसर एफिलिएट मार्केटिंग: इन्फ्लुएंसर एफिलिएट एक ऐसी मार्केटिंग प्रक्रिया है जिसमें किसी उत्पाद या ब्रांड को बढ़ावा देने के लिए प्रभावित करने वालों को भुगतान किया जाता है।

7. कंटेंट एफिलिएट मार्केटिंग: यह मार्केटिंग कि वे प्रक्रिया है जिसमें एफिलिएट मार्केटर्स को किसी उत्पाद या ब्रांड को बढ़ावा देने वाली कन्टेट के लिए भुगतान किया जाता है। इसमें ब्लॉग पोस्ट, वीडियो या कोई अन्य प्रकार की कन्टेट शामिल हो सकता है।

Affiliate Marketers को कैसे भुगतान किया जाता हैं?

संबद्ध विपणक आमतौर पर प्रत्येक उत्पाद या सेवा के लिए प्रति-बिक्री के आधार पर भुगतान करते हैं जो वे एक व्यापारी को संदर्भित करते हैं। यह एक कमीशन, एक निश्चित शुल्क या दोनों का संयोजन हो सकता है। कमीशन की दर व्यापारी और बेचे जा रहे उत्पाद या सेवा के आधार पर अलग-अलग हो सकते है।

जब वे किसी वेंडर के लिए बिक्री या लीड जेनरेट करता हैं तो उन्हें उसके लिए एक भुगतान राशि मिलता है। सहबद्धों को आम तौर पर कमीशन के आधार पर भुगतान किया जाता है, जो बिक्री या लीड राशि का प्रतिशत होता है। यह कमीशन आमतौर पर प्रति बिक्री 5-50% के बीच होता है, लेकिन उत्पाद या सेवा के आधार पर वे भिन्न भी हो सकते है।

यह कभी-कभी उनके द्वारा उत्पन्न प्रत्येक लीड के लिए एक समान शुल्क का भुगतान भी कर सकता है। कई सहबद्ध कार्यक्रम प्रदर्शन-आधारित बोनस और प्रोत्साहन कार्यक्रमो के लिए भी भुगतान प्रदान करता हैं, जैसे किसी उत्पाद या सेवा कि बिक्री को उनके लक्ष्यों तक पहुँचने के लिए प्रतियोगिता या पुरस्कार के तौर पर। एफिलिएटरस को आमतौर पर कार्यक्रम के आधार पर मासिक या द्विमासिक के आधार पर भुगतान किया जाता है।

Affiliate marketing के क्या फाएदे है?

यह अतिरिक्त आय अर्जित करने का एक शानदार तरीका है। यह एक प्रदर्शन-आधारित मार्केटिंग प्रोग्राम है, जहाँ ग्राहकों को मर्चेंट की साइट पर रेफ़र करने के लिए कंपनियों के द्बारा सहयोगी एफिलिएटरस को पुरस्कृत किया जाता है। एफिलिएट मार्केटिंग के कुछ लाभों के बारे मे यहा दिया गया हैं:

  • कम लागत: इस कार्यक्रम से खुद को जौड़ने के लिए न्यूनतम प्रयास और वित्तीय निवेश की आवश्यकता होती है।
  • बढ़ी दृश्यता: बड़ी ब्रांड के साथ सहयोगी के तौर पर काम करते हुये आपके संदेशो को बड़े दर्शकों तक फैलाने में मदद मिलता हैं, जिसके परिणामस्वरूप आपकी ब्रांड जागरूकता भी बढ़ती है।
  • आसान ट्रैकिंग : एनालिटिक्स और ट्रैकिंग टूल आपके एफिलिएट प्रयासो की सफलता को मापना आसान बनाते हैं।
  • लागत प्रभावी: एक सहयोगि मार्केटर के रुप मे इस तरह की मार्केट प्लेस के साथ क्षुद को जौड़ने के लिए आपको अपने ओर से कई भुगतान करने की आवश्यकता नहीं होती ।
  • कम जोखिम: एफिलिएट मार्केटर के तौर पर जब आप कोइ लीड जेनरट करते है तक वे परिणामस्बरुप आपको कमिशन मिलता है। लेकिन वही अगर आप कोई लीड उत्पन्न करने मे असफल होते है तो आपको किसी भी तहर की कोइ पेनाल्टी नहीं होती है।

कुल मिलाकर, यह अतिरिक्त आय उत्पन्न करने का एक प्रभावी तरीका है। इसमें आपकी ओर से कोई वित्तीय निवेश की आवश्यकता होती है।

एफिलिएट मार्केटिंग से कैसे जुड़ें?

इस तरह की मार्केटिंग ऑनलाइन पैसे कमाने का एक बहुत ही लोकप्रिय तरीका है। इसमें शामिल होने के steps यहां दिए गए हैं:

1. प्रचार करने के लिए एक उत्पाद या सेवा चुनें। कोई भी उत्पाद या एफिलिएट मार्केटिंग कंपनी चुनते समय यह सुनिश्चित करे कि ये आपके लिए कितना उपियुक्त हैं।

2. हमेशा एक प्रतिष्ठित कंपनियों के कार्यक्रमों की तलाश करें जिनकी अच्छी प्रतिष्ठा हो और साथही एक उदार कमीशन दर प्रदान करता हैं।

3. उत्पाद या सेवा को बढ़ावा देने के लिए एक वेबसाइट या ब्लॉग बनाएं। यह वह प्लेटफ़ॉर्म होगा जिसका उपयोग आप लोगों को मर्चेंट की वेबसाइट पर निर्देशित करने के लिए करने बाले होंगे हैं।

4. अपनी वेबसाइट या ब्लॉग पर ट्रैफ़िक बड़ाने का प्रयास करें। आप अपनी वेबसाइट या ब्लॉग पर ट्रैफ़िक लाने के लिए SEO, सोशल मीडिया और कंटेंट मार्केटिंग जैसे विभिन्न तरीकों का उपयोग कर सकते हैं।

5. अपने एफिलिएट लिंक के प्रदर्शन की निगरानी करें। अपनी प्रगति को ट्रैक करें और सुनिश्चित करें कि आप उस कमीशन दर को अर्जित कर रहे हैं जिसका वादा व्यापारी ने आपसे किया था।

6. एफिलिएट कार्यक्रम में परिवर्तन के साथ खुद को बनाए रंखे। यह सुनिश्चित करें कि आप कार्यक्रम में होने बाले किसी भी बदलाव से अवगत हैं।

उपर बताए गए इन चरणों का पालन करके आप एक सफल एफिलिएट मार्केटर बनने की राह पर होंगे। और इस प्रकार आपको कामयाबी जरुर मिलेगी !

एफिलिएट मार्केटिंग प्लेटफॉर्म का चयन कैसे करें?

एक एफिलिएट मंच का चयन करते समय, ट्रैकिंग और रिपोर्टिंग कि क्षमताओं, कमीशन भुगतान कि विकल्प, विभिन्न सोशाल मिडिया चैनलों मे मार्केटिंग की सुबिधाओ समेत उपयोग में आसानी जैसी बातो पर ध्यान देना जरुरी है। इसके अलाबा, प्लेटफ़ॉर्म की प्रतिष्ठा और ग्राहक सेवा विकल्पों पर भी गौर करना जरुरी होता है। प्लेटफ़ॉर्म की लागत और इसके द्वारा प्रदान किए जाने वाले उत्पादों और सेवाओं के प्रकार की जांच करना भी महत्वपूर्ण है। इसके अतिरिक्त, अन्य सहायक मार्केटिंग टूल, जैसे ईमेल मार्केटिंग सॉफ़्टवेयर या सोशल मीडिया टूल के साथ प्लेटफ़ॉर्म की अनुकूलता पर विचार करना जरुरी है। अंततः, एक ऐसा प्लेटफ़ॉर्म चुनें जो आपकी आवश्यकताओं को सर्वोत्तम रूप से पूरा करने वाली सुविधाओं और सेवाओं की पेशकश करता हो।

एफिलिएट मार्केटिंग की शुरुआत कैसे करें?

  • एक विषय चुनें जिसके बारे में आपको जानकारी हो।
  • विषय पर फैसला कर लेते के बाद संबंधित एफिलिएट कार्यक्रमों पर शोध करें। उन कार्यक्रमों की तलाश करें जो अच्छा कमीशन प्रदान करता हो और जिनकी अच्छी प्रतिष्ठा हो।
  • अपने चुने हुए एफिलिएट कार्यक्रमों को बढ़ावा देने के लिए एक वेबसाइट बनाएं। अपनी साइट पर आगंतुकों को आकर्षित करने के लिए अपने विषय से संबंधित सामग्री और संसाधन जोड़ें।
  • अपनी वेबसाइट पर ट्रैफ़िक लाने के लिए विभिन्न मार्केटिंग तकनीकों जैसे सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन, सोशल मीडिया मार्केटिंग, ईमेल मार्केटिंग और कंटेंट मार्केटिंग जैसी तकनीकों का उपयोग करें।
  • अपने अभियानों की प्रभावशीलता को मापने के लिए इनकी निगरानी करें। आपकी वेबसाइट पर आने वाले आगंतुकों की संख्या और की गई खरीदारी की संख्या को ट्रैक करें।
  • जैसे ही आप अपने परिणाम ट्रैक करते हैं, अपने परिणामों को अनुकूलित करने के लिए अपनी रणनीति और अभियानों को समायोजित करें।

भारत में सबसे लोकप्रिय एफिलिएट प्लेटफॉर्म कौन से हैं?

  1. Amazon
  2. Flipkart
  3. VCommission
  4. Clickbank
  5. Admitad
  6. CJ Affiliate
  7. Myntra
  8. makemytrip
  9. eBay
  10. yatra

FAQs


एफिलिएट से आप कितना कमा सकते हैं?

इस प्रकार कि मार्केटिंग से आप जो कमाई कर सकते हैं वह वास्तव में कई कारकों पर निर्भर करता है, जिसमें आपकी सामग्री की गुणवत्ता, आपके दर्शकों का आकार, आपके द्वारा प्रचारित उत्पाद और आपके द्वारा किए जाने वाले प्रयासों की मात्रा शामिल है। सामान्य तौर पर, आप प्रति माह कुछ सौ से लेकर कुछ हज़ार डॉलर तक कमाने की अपेक्षा कर सकते है।

क्या एफिलिएट मार्केटिंग भारत में कानूनी है?

हाँ, एफिलिएट कार्यक्रम भारत में कानूनी है। हालाँकि, यह कुछ नियमों और विनियमों के अधीन है। संबद्धों को देश के कानूनों और एफिलिएट कार्यक्रम के नियमों और शर्तों का पालन करना चाहिए। इसके अतिरिक्त, संबद्धों को भारतीय अनुबंध अधिनियम, 1872 और भारतीय दंड संहिता, 1860 के प्रावधानों का पालन करना चाहिए।

About The Author

Author and Founder digipole hindi

Biswajit

Hi! Friends I am BISWAJIT, Founder & Author of 'DIGIPOLE HINDI'. This site is carried a lot of valuable Digital Marketing related Information such as Affiliate Marketing, Blogging, Make Money Online, Seo, AdSense, Technology, Blogging Tools, etc. in the form of articles. I hope you will be able to get enough valuable information from this site and will enjoy it. Thank You.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *