Cryptocurrency क्या है? यह कैसे काम करता है

“क्रिप्टोक्यूरेंसी” इस शद्ब को आपने कई बार सोना होगा, लेकिन Cryptocurrency क्या है? इसके बारे मे आपके पास ज्यादा जानकारी नही है। अगर आप इसके बारे मे जानकारी जुटाना चाहते है तो ये लेख आपके लिए मददगार होने बाला है।

एक समय था जब ब्यपार सामानो कि अदला बदली के साथ होता था। बदते समय के साथ कारोवार सोने-चान्दि और ताँबा पर निर्भर हो गया और फिर वे धीरे-धीरे छिक्को मे वदल गया। फिर कागजी नोटो का चलन आया जो आजतक वरकरार है।

लगबग पिछले दो दशको से डिजिटलीकरण का दौड़ चला तो हर सम्बाभित क्षेत्र डिजिटलीकृत होता गया। इस दौरान लेनदेन के तरिको मे भी भारी वदलाब आया और आधुनिक लेनदेन के कई तरिके हमे आजमाने को मिले।

अब लेनदेन का एक और नया डिजिटल तकनिक हमे दस्तक दे रहा हे जोकि क्रिप्टोक्यूरेंसी के नाम से जाना जाता है।

Cryptocurrency क्या है?

क्रिप्टोक्यूरेंसी एक डिजिटल मुद्रा है जिसे लेनदेन के रूप में काम करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह संपत्ति के हस्तांतरण की सुरक्षित लेनदेन के लिए उपयोगी है। क्रिप्टोक्यूरेंसी मुद्रा का एक डिजिटल रूप है जो विकेंद्रीकृत है और किसी भी सरकार या केंद्रीय वित्तीय संस्थानों द्वारा नियंत्रित नहीं है।

यह एक आभासी मुद्रा है जो लेन-देन को सुरक्षित करने और मुद्रा की निर्माण को नियंत्रित करने के लिए क्रिप्टोग्राफी का उपयोग करता है।इसका उपयोग ऑनलाइन खरीदारी के लिए, फंड ट्रांसफर करने के लिए या धन संचय करने के लिए भी किया जा सकता है।

यह ऑनलाइन लेनदेन को सुविधाजनक बनाने, सुरक्षित भुगतान प्रदान करने और संभावित रूप से वित्तीय सेवाओं की दक्षता बढ़ाने के लिए डिजिटल तकनीक का उपयोग करने का एक अभिनव तरीका है।

क्रिप्टोक्यूरेंसी एक उभरती हुई वित्तीय तकनीक है जिसमें वैश्विक अर्थव्यवस्था में क्रांति लाने की क्षमता है।

Cryptocurrency का मूल सिद्धांत

अब तक आपने यह जान लिया कि Cryptocurrency क्या है और ये क्रिप्टोग्राफी द्वारा सुरक्षित डिजिटल मुद्रा हैं। तो चलिए, क्रिप्टोकरेंसी कितने प्रकार की होती है इस पर थोडी सी रोशनी डाल लेते है।

वास्तव में हजारों कि संखा मे क्रिप्टोकरेंसी अस्तित्व में हैं। चलिए उन पर भी एक नज़र डाल लेते हैं, और अन्य कुछ विषेश प्रकार के क्रिप्टोकरेंसीयों के बारे में जान लेते हैं।

Cryptocurrency क्या है

हलांकी क्रिप्टोकरेंसी एक ब्लॉकचेन नामक बुनियादी ढाँचे कि जरिए काम करता हैं, लेकिन फिर भी उनके बीच कुछ मुलभुत अंतर हैं। आमतौरपर, इस को दो अलग-अलग श्रेणियों में बांटा जा सकता है:

1. सिक्के (Coins): कॉइन एक ऐसी क्रिप्टो करेंसी है जो अपने स्वयं के और स्वतंत्र ब्लॉकचेन का उपयोग करता है। उदाहरण के लिए, bitcoin को एक “सिक्का” माना जा सकता है क्योंकि यह अपने स्वयं के बुनियादी ढांचे पर चलता है। इसी तरह, ईथर भी और एक किसम का सिक्का है जो एथेरियम ब्लॉकचेन के माध्यम से संचालित होता है।

बिटकॉइन की तरह ही एक ओर कॉइन है जोकि “altcoin” के रुप मे जाना जाता है और वे बिटकॉइन के समान एबम उसकी वैकल्पिक तौर पर काम करता हैं। हालांकि, इसके अतिरिक्त कुछ और अन्य कॉइन भी है, जो इसने थोड़ीअलग है जैसेकि डॉगकोइन।


2. टोकन (Token): क्रिप्टोकरेंसी में टोकन एक digital asset है जिसका उपयोग मूल्य की इकाई के रूप में किया जाता है। इस टोकन का इस्तेमाल सामान कि खरिदारी, सेवाओं या अन्य प्रकार की क्रिप्टोकरेंसी की आदान-प्रदान के लिए किया जा सकता है।

टोकन खनन(mining) की एक प्रक्रिया के माध्यम से बनाए और वितरित किए जाते हैं, जो blockchain पर लेनदेन को सत्यापित करने और रिकॉर्ड करने की एक प्रक्रिया है।

टोकन आमतौर पर संपत्ति का प्रतिनिधित्व करने के लिए उपयोग किए जाते हैं, जैसे कि वास्तविक दुनिया की संपत्ति, या utility tokens, security tokens,, equity tokens जैसी डिजिटल संपत्ति।

टोकन bitcoin जैसी क्रिप्टोकरेंसी से थोडी अलग हैं, क्योंकि उनके पास अपना ब्लॉकचेन नहीं है, लेकिन वे Ethereum जैसे Blockchain प्लेटफॉर्म पर मौजूद होता हैं।

Read Also

Razorpay kya hai? कैसे और क्या काम करता है?

What is PGP Encryption in Hindi?PGP Encryption Network Security

Cryptocurrency में Blockchain क्या है?

ब्लॉकचेन एक डिजिटल लेज़र तकनीक है जिसका उपयोग क्रिप्टोकरेंसी लेनदेन को रिकॉर्ड करने के लिए किया जाता है। यह उन ब्लॉकों से बना है जिनमें लेन-देन कि डेटा मौजुद होता है और एक श्रृंखला बनाने के लिए एक साथ लिंक होता है, इसलिए इसे ब्लॉकचैन कहाजाता है।

यह सुरक्षित, अपरिवर्तनीय और विकेंद्रीकृत है, जिसका अर्थ है कि यह किसी एक इकाई के नियंत्रण में नहीं है। इसका उपयोग क्रिप्टोकरेंसी लेनदेन को सुविधाजनक बनाने और सत्यापित करने के लिए किया जाता है, और इसका उपयोग स्मार्ट अनुबंध और अन्य एप्लिकेशन बनाने के लिए भी किया जा सकता है।

ब्लॉकचैन प्रौद्योगिकी वित्तीय लेन-देन के तरीके में क्रांति ला रही है, और लोगो को अधिक विश्वास, सुरक्षा, पारदर्शिता और दक्षता प्रदान कर रही है।

क्रिप्टोकरेंसी के तंत्र कैसे काम करता है?

क्रिप्टोक्यूरेंसी नेटवर्क पर होने वाले सभी लेनदेन को सुरक्षित और सत्यापित करने के लिए क्रिप्टोग्राफी का उपयोग करके काम करता है। यह सभी लेन-देन का एक सार्वजनिक बहीखाता बनाकर कर रखता है, जिसे ब्लॉकचेन के रूप में जाना जाता है। ब्लॉकचेन पर सभी लेन-देन cryptography द्वारा सुरक्षित होते हैं और Miners द्वारा सत्यापित किए जाते है।

Miners हर लेन-देन को सत्यापित करने के लिए एक जटिल गणितीय समीकरणों को हल करते है और इसके लिए वे एक शक्तिशाली कंप्यूटर का उपयोग करते हैं। एक बार लेन-देन सत्यापित हो जाने के बाद, इसे blockchain में जोड़ दिया जाता है और तब Miner को एक क्रिप्टोक्यूरेंसी मिलता है।

इस प्रक्रिया को “proof of work” के रूप में जाना जाता है और इसका उपयोग यह सुनिश्चित करने के लिए किया जाता है कि नेटवर्क पर होने वाले सभी लेनदेन वैध हैं। इस तरह, क्रिप्टोकरेंसी एक तेज़ और अधिक सुरक्षित लेनदेन के साथ-साथ उपयोगकर्ताओं के लेनदेन की गोपनीयता वनाए रखता है।

Cryptocurrency के कितने प्रकार है ?

2022 तक के अकलन के अनुसार , संचलन में करीब 10,000 विभिन्न प्रकार की क्रिप्टोकरेंसी उपलद्ब हैं। जिनमें से सबसे लोकप्रियता मे Bitcoin, Ethereum, Litecoin, Ripple, और Zcash शामिल हैं। यह सभी डिजिटल या आभासी मुद्राएं हैं जोकि क्रिप्टोग्राफी से सुरक्षित होते हैं, जिसके कारण उनकी नकल करना मुश्किल है।

क्रिप्टोकरेंसी के इतनी सारे प्रकारो मे से Bitcoin सबसे ज्यादा लोकप्रिय और व्यापक रूप से इस्तेमाल किया जाने वाला क्रिप्टोकरेंसी है, जिसे 2009 में बनाया गया था। बिटकॉइन डिजिटल कैश का एक रूप है जिसे बैंक जैसे वित्तीय मध्यस्थ की आवश्यकता के बिना सीधे एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति को भेजा जा सकता है।

इन प्रमुख क्रिप्टोकरेंसी के अलावा भी, कई अन्य प्रकार की डिजिटल मुद्राएँ हैं, जैसे कि स्थिर सिक्के, सुरक्षा टोकन, उपयोगिता टोकन और utility टोकन (एनएफटी)।

  • स्थिर सिक्के(Stablecoins): ये एक ऐसी क्रिप्टोकरेंसी हैं जो US dollar जैसी भौतिक संपत्ति द्वारा समर्थित हैं।
  • सुरक्षा टोकन(Security tokens): ये वे डिजिटल संपत्ति हैं जो स्टॉक और बॉन्ड जैसे वास्तविक दुनिया के निवेश का प्रतिनिधित्व करता हैं।
  • यूटिलिटी टोकन(Utility tokens): ये एक डिजिटल एसेट्स हैं जिनका उपयोग किसी विशेष सेवा या उत्पाद तक पहुंचने के लिए किया जाता है, एनएफटी वे डिजिटल एसेट्स हैं जो अद्वितीय हैं और जिन्हें दोहराया नहीं जा सकता है।

Read Also

Cryptography Kya Hai? What is Cryptography in Hindi?

Encryption Kya Hai? Encryption meaning in Hindi

दुनिया की 10 सबसे लोकप्रिय Cryptocurrencies कौन सी हैं?

नीचे 10 सबसे लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी दी गई हैं जो इस प्रकार हैं:

1. Bitcoin (BTC): बिटकॉइन दुनिया की सबसे लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी है, और यह एक विकेंद्रीकृत digital currency है। यह ब्लॉकचेन तकनीक पर आधारित है और किसी बिचौलिए की आवश्यकता के बिना peer-to-peer लेनदेन के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।

2. Ethereum (ETH): एथेरियम एक ओपन-सोर्स ब्लॉकचेन प्लेटफॉर्म है जो डेवलपर्स को विकेंद्रीकृत एप्लिकेशन बनाने की अनुमति देता है। यह लोकप्रियता में दूसरे स्थान पर है और इसका उपयोग कई कंपनियों और संगठनों द्वारा अपने स्वयं के टोकन और विकेंद्रीकृत अनुप्रयोगों को बनाने के लिए किया जाता है।

3. Ripple (XRP): Ripple एक digital currency प्रोटोकॉल है जिसका उपयोग बैंकों और अन्य वित्तीय संस्थानों द्वारा स्थानान्तरण और भुगतान की सुविधा के लिए किया जाता है। यह ब्लॉकचेन तकनीक पर आधारित है और बाजार पूंजीकरण के हिसाब से तीसरी सबसे बड़ी क्रिप्टोकरेंसी है।

4. Litecoin (LTC): लिटकोइन एक peer-to-peer क्रिप्टो करेंसी है जो बिटकॉइन के समान है लेकिन लेनदेन में Bitcoin से भी तेज है। यह एक ओपन-सोर्स प्लेटफॉर्म है और इसका बाजार पूंजीकरण बिटकॉइन की तुलना में अधिक है।

5. Bitcoin Cash (BCH): बिटकोइन कैश बिटकॉइन का एक कांटा है जिसे मूल क्रिप्टोकरेंसी के कुछ स्केलेबिलिटी मुद्दों को संबोधित करने के लिए बनाया गया था। यह एक peer-to-peer इलेक्ट्रॉनिक कैश सिस्टम है जिसमें बिटकॉइन जैसी ही विशेषताएं हैं।

6. Tether (USDT): टीथर एक स्थिर मुद्रा है जो अमेरिकी डॉलर से जुड़ी है। इसका उपयोग व्यापारियों द्वारा क्रिप्टोकरेंसी की अस्थिरता के प्रति अपने जोखिम को कम करने के लिए किया जाता है।

7. Cardano (ADA): कार्डानो ब्लॉकचेन तकनीक पर आधारित एक ओपन-सोर्स स्मार्ट कॉन्ट्रैक्ट प्लेटफॉर्म है। यह बाजार पूंजीकरण द्वारा सातवीं सबसे बड़ी क्रिप्टोकरेंसी है और इसका उपयोग विकेंद्रीकृत अनुप्रयोगों और स्मार्ट अनुबंधों को बनाने के लिए किया जाता है।

8. Binance Coin (BNB): बिनेंस कॉइन, बिनेंस क्रिप्टोक्यूरेंसी एक्सचेंज का मूल टोकन है। इसका उपयोग एक्सचेंज पर ट्रेडिंग फीस का भुगतान करने के लिए किया जाता है और इसका उपयोग प्लेटफॉर्म पर सामान और सेवाएं खरीदने के लिए किया जा सकता है।

9. Stellar (XLM): स्टेलर एक ओपन-सोर्स ब्लॉकचैन प्लेटफॉर्म है जिसका उपयोग सीमा पार भुगतान और संपत्ति के आदान-प्रदान की सुविधा के लिए किया जाता है। यह बाजार पूंजीकरण द्वारा नौवीं सबसे बड़ी क्रिप्टोक्यूरेंसी है और इसका उपयोग कई संगठनों और कंपनियों द्वारा किया जाता है।

10. Monero (XMR): मोनेरो एक गोपनीयता-उन्मुख क्रिप्टोक्यूरेंसी है जिसे उपयोगकर्ताओं को गुमनामी प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह क्रिप्टोनोट प्रोटोकॉल पर आधारित है और बाजार पूंजीकरण द्वारा दसवीं सबसे बड़ी क्रिप्टोक्यूरेंसी है।

Read Also

What is End to End Encryption in Hindi?

Google Bard AI चैटबॉट क्या है?और ये ChatGTP से कैसे अलग है

Cryptocurrency के फायदे और नुकसान क्या हैं?

हालाँकि, इसमे फायदे और नुकसान दोनों ही मौजुद हैं और वे कुछ इस प्रकार हैं:

क्रिप्टोक्यूरेंसी के लाभ:

1. यह विकेंद्रीकृत है, जिसका अर्थ है कि यह किसी केंद्रीय प्राधिकरण द्वारा नियंत्रित या विनियमित नहीं है। यह इसे और अधिक सुरक्षित और निजी बनाता है, क्योंकि यह सरकारों या बैंकों द्वारा नियंत्रन के अधीन नहीं है।

2. इसमे लेनदेन शुल्क आमतौर पर क्रेडिट कार्ड या वायर ट्रांसफर जैसे पारंपरिक भुगतान विधियों की तुलना में कम होता है।

3. वे अधिक तेज और कुशल है; और लेन-देन आमतौर पर मिनटों में पूरा हो जाता है।

4. यह विश्व स्तर पर काम करता है, इसलिए इसका उपयोग दुनिया में कहीं भी, कोई भी कर सकता है।

क्रिप्टोक्यूरेंसी के नुकसान:

1. मूल्लांकन के मामले मे यह अत्यधिक अस्थिर है, क्योंकि इसका मूल्य तेजी से बदलता रहता है। यह निवेशकों के लिए जोखिम भरा होता है, क्योंकि अगर उनके निवेश का मूल्य गिर जाता है तो वे पैसे खो सकते हैं।

2. वे व्यापक रूप से स्वीकार नहीं की जाती है, और इसलिए इसे रोजमर्रा के लेनदेन के लिए उपयोग करना मुश्किल हो जाता है।

3. गिने चुने कुछ देशो को छोड दिया जाए ती यह ज्यादातर सरकार या वित्तीय संस्थान द्वारा समर्थित नहीं है, इसलिए इसकी कोई गारंटी नहीं है कि यह अपना मूल्य बनाए रखेगी।

4. क्रिप्टोक्यूरेंसी हैकिंग और अन्य साइबर हमलों के लिए असुरक्षित है, जिससे संभावित रूप से धन की हानि हो सकती है।

भारत में Cryptocurrency का अस्तित्व

Cryptocurrency भारत में चर्चा का एक लोकप्रिय विषय बन गया है। अब तक, भारतीय नियामकों ने किसी भी प्रकार की क्रिप्टोकरंसी को आधिकारिक रूप से कानूनी मान्यता नहीं दी है, हालांकि, भारत सरकार सक्रिय रूप से एक राष्ट्रीय क्रिप्टोकरेंसी की शुरुआत पर विचार कर रही है।

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने क्रिप्टोकरेंसी की अस्थिरता और विनियमन की कमी का हवाला देते हुए इसके उपयोग के खिलाफ चेतावनी दी है। 2019 में, RBI ने भारतीय बैंकों को क्रिप्टो-संबंधित व्यवसायों को सेवाएं प्रदान करने से प्रतिबंधित करने वाला एक नोटिस जारी किया था। इसके बावजूद, भारत में अभी भी एक बड़ा और बढ़ता हुआ क्रिप्टोकरंसी समुदाय है।

भारत में अबतक कई क्रिप्टोक्यूरेंसी एक्सचेंज खुल गए हैं, और भारतीय क्रिप्टो बाजार को विकसित करने के लिए कई परियोजनाओ पर काम कर रहे हैं। कुछ उल्लेखनीय पहलों में शैक्षिक सामग्री बनाना, स्थानीय भुगतान समाधान विकसित करना, यहां तक कि भारत सरकार द्वारा क्रिप्टोकरेंसी को अपनाने को प्रोत्साहित करना शामिल है।

Cryptocurrency कैसे खरीदें?

क्रिप्टोक्यूरेंसी की खरीदारी कुछ सरल चरणों का पालन करके की जा सकती है। सबसे पहले, आपको एक प्रतिष्ठित क्रिप्टोक्यूरेंसी एक्सचेंज खोजना होगा। ये एक्सचेंज आपको फिएट करेंसी (जैसे USD, EUR, GBP) के साथ विभिन्न प्रकार की क्रिप्टोकरेंसी खरीदने और बेचने की अनुमति देते हैं।

एक बार जब आप एक एक्सचेंज चुन लेते हैं, तो आपको एक खाता बनाने और धन जमा करने की आवश्यकता होती है। फिर आप खरीदने और ऑर्डर देने के लिए एक क्रिप्टोकरेंसी का चयन कर सकते हैं। एक बार आपका ऑर्डर मंज़ूर हो जाने के बाद, क्रिप्टोक्यूरेंसी आपके वॉलेट में दिखाई देगा।

क्रिप्टोक्यूरेंसी कहां से खरीदें?

इसकी खरीदने के कई तरीके हैं, लेकिन इसे ऑनलाइन खरीदना सबसे बेहतर और सुविधाजनक तरीका है। आपके द्वारा खरीदी जा रही क्रिप्टोकरेंसी के प्रकार के आधार पर, कई एक्सचेंज आपको डेबिट या क्रेडिट कार्ड, बैंक ट्रांसफर, PayPal और यहां तक कि नकद जैसे भुगतान के माध्यम से भी खरीदारी जा सकता हैं।

कुछ प्रमुख और लोकप्रिय ऑनलाइन एक्सचेंजों में Coinbase, Binance, Kraken, Gemini, और Bitstamp शामिल हैं, जो सभी प्रतिस्पर्धी विनिमय दरों और सहज उपयोगकर्ता इंटरफेस की पेशकश करते हैं। इसके अतिरिक्त, दुनिया भर में कई क्रिप्टो ATMs स्थित हैं, जहा आप नकदी के साथ सीधे एटीएम से क्रिप्टोकरंसी खरीद सकते हैं।

इसके अलाबा क्रिप्टोक्यूरेंसी खरीदने के इच्छुक लोगों के लिए, कई peer-to-peer मार्केटप्लेस हैं जैसे कि LocalBitcoins, Paxful, और Bisq, जहां उपयोगकर्ता खरीदारों और विक्रेताओं से जुड़ सकते हैं और सीधे क्रिप्टोकरेंसी खरीद सकते हैं।

Read Also

Cost Per Click क्या है?AdSense CPC कैसे Increase करें?

Chat gpt क्या है?(OpenAI) और यह कैसे काम करता है?

भारत में क्रिप्टोक्यूरेंसी कैसे खरीदें?

भारत में, क्रिप्टोकरंसी खरीदना अपेक्षाकृत सरल है, हालांकि, ऐसा करने से पहलेके कानूनी और नियामक प्रभावों को ठिक से समझ लेना बहुत ही जरुरी है। भारत में, क्रिप्टोकरंसी खरीदने के लिए, एक उपयोगकर्ता को पहले एक क्रिप्टोक्यूरेंसी वॉलेट खोलना होगा, जो एक सुरक्षित डिजिटल वॉलेट है जिसका उपयोग digital currency को स्टोर करने, भेजने और प्राप्त करने के लिए किया जाता है।

फिर, क्रिप्टोक्यूरेंसी के प्रकार के आधार पर, उपयोगकर्ता को यह तय करना होगा कि किस एक्सचेंज या ब्रोकर का उपयोग करना है। उदाहरण के लिए, बिटकॉइन के लिए, लोकप्रिय एक्सचेंजों में Zebpay, Unocoin, और Coinsecure एक्सचेंज शामिल हैं।एक्सचेंज चुने जाने के बाद, उपयोगकर्ता को एक अकाउन्ट के लिए पंजीकरण करना होगा और KYC दस्तावेज प्रदान करके अपनी पहचान सत्यापित करना होगा।

एक बार पंजीकरण प्रक्रिया पूरी हो जाने के बाद, उपयोगकर्ता अपने खाते में धनराशि स्थानांतरित कर सकते हैं और क्रिप्टोकरेंसी खरीदना और बेचना शुरू कर सकते हैं। उनके साथ साइन अप करने से पहले किसी एक्सचेंज की विश्वसनीयता पर शोध करना भी महत्वपूर्ण है। इसके अतिरिक्त, एक बार क्रिप्टोक्यूरेंसी खरीद लेने के बाद, इसे सुरक्षित वॉलेट में स्थानांतरित करना बुद्धिमानी है।

FAQs

Cryptocurrency से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न और उनके उत्तर:

क्या Cryptocurrency निवेश के लिए सुरक्षित है?

इस प्रश्न का उत्तर इस बात पर निर्भर करता है कि आप किस प्रकार की क्रिप्टोकरेंसी में निवेश कर रहे हैं। किसी भी निवेश की तरह, इसमें भी जोखिम होता है, इसलिए निवेश करने से पहले संभावित जोखिमों और फाऐदे को समझना महत्वपूर्ण है। क्रिप्टोक्यूरेंसी अस्थिर होते है, और कुछ डिजिटल सिक्के दूसरों की तुलना में अधिक जोखिम भरे होते हैं। इसलिए अपना शोध करें और केवल वही निवेश करना सुनिश्चित करें जिसे आप झेल सकते हैं।

क्या Cryptocurrency में निवेश करना वैध है?

क्रिप्टोक्यूरेंसी एक वैध निवेश हो सकता है, लेकिन इस प्रकार के निवेश से जुड़े जोखिमों पर अपना शोध करना और उन्है समझना महत्वपूर्ण है। क्रिप्टोक्यूरेंसी अत्यधिक अस्थिर digital currency है और साथही जोखिम भरा भी, इसलिए बाजार को समझना और केवल वही निवेश करना महत्वपूर्ण है जिसे आप खोने के लिए तैयार हैं। क्रिप्टोक्यूरेंसी स्पेस में संभावित घोटालों और अन्य जोखिमों से अवगत होना भी जरुरी है।

भारत की क्रिप्टो करेंसी कौन सी है?

भारत की आधिकारिक क्रिप्टो मुद्रा अभी तक उपलब्ध नहीं है। हालाँकि, भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने लक्ष्मी कॉइन नामक भारतीय रुपये (INR) का एक डिजिटल संस्करण प्रस्तावित किया है, जिसके निकट भविष्य में लॉन्च होने की उम्मीद है।

About The Author

Author and Founder digipole hindi

Biswajit

Hi! Friends I am BISWAJIT, Founder & Author of 'DIGIPOLE HINDI'. This site is carried a lot of valuable Digital Marketing related Information such as Affiliate Marketing, Blogging, Make Money Online, Seo, Technology, Blogging Tools, etc. in the form of articles. I hope you will be able to get enough valuable information from this site and will enjoy it. Thank You.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *